कमलनाथ का शिवराज पर वार, इन सवालों के बीच घिरी सरकार

Faiz Mubarak

Publish: Jun, 14 2018 12:28:38 PM (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
कमलनाथ का शिवराज पर वार, इन सवालों के बीच घिरी सरकार

कमलनाथ का शिवराज पर वार, इन सवालों के बीच घिरी सरकार

भोपालः जैसे जैसे मध्य प्रदेश में चुनाव के दिन नज़दीक आ रहे है, वैसे वैसे आरोप प्रत्यारोप, सवाल और घेराबंदी का सिल सिला बढ़ गया है। एक तरफ जहां सरकार अपनी गर्दन छुड़ाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है, वहीं दूसरी तरफ विपक्ष सरकार को घेरने का कोई भी मौका हाथ से जाने देना नहीं चाहता। इसी को लेकर एक बार फिर पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश पर बढ़ते कर्ज को लेकर शिवराज सरकार पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि, एक तरफ राज्य का पूरा ख़जाना किन किन कामों के चलते ख़ाली होता जा रहा है। सरकार के पास इसे लेकर एक तो कोई संतुष्टात्मक जवाब नहीं है, फिर भी सरकार निरंतर कर्ज पर कर्ज लेकर राज्य को क़र्ज में डुबाती जा रही है, जिसके चलते प्रदेश की स्थिति दिनोंदिन भयावह होती जा रही है।

कमलनाथ का जनता से सवाल

कांग्रेस अध्यक्ष ने एक बार फिर सरकार से इस बात की मांग की है कि, वह कर्ज को लेकर श्वेत पत्र जारी करे। कमलनाथ ने साल 2018 के वित्तीयवर्ष की बात करते हुए कहा कि, इस वित्तीय वर्ष को शुरु हुए अभी दिन ही कितने हुए है, लेकिन इतने कम समय में ही राज्य सरकार तीन हजार करोड़ रुपए कर्ज के तौर पर लिए, जिसे चुकाए या कम करे बग़ैर ही सरकार ने एक बार फिर हजार करोड़ रुपए का कर्ज ले लिया। उन्होंने मीडिया के माध्यम से लोगों से सवाल किया कि, आप यह बताइए कि, अगर सरकार कर्ज में डूबेगी तो उसका हर्जाना किसे करना पड़ेगा, सरकार को या जनता को? उन्होंने कहा कि, प्रदेश कर्ज के बोझ तले डूबता जा रहा है और हर व्यक्ति की औसत कर्ज की राशि भी दिन ब दिन बढ़ती जा रही है। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि, वो तो चुनाव जीतने के लिए हर रोज़ घोषणाओं पर घोषणाएं कर रही है, जिन्हें पूरा करने के लिए आए दिन कर्ज ले रही है, लेकिन इस बढ़े हुए कर्ज को चुकाने के लिए वह राज्य में महंगाई बढ़ाकर जनता से उस कर्ज की राषि को वसूलेगी।

कितने कर्ज में दबी है जनता बताए सरकारः कमलनाथ

कमलनाथ ने सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि, मध्य प्रदेश की सरकार ने देश के सभी राज्यों के मुक़ाबले सबसे ज़्यादा कर्ज लेने वाली सरकार का तमग़ा लेने का फैसला लिया है। सरकार चुनावी साल होने के चलते मुख्यमंत्री की ब्रांडिंग, प्रचार-प्रसार, अभियानों, यात्राओं और सम्मेलनों में राशि लुटाने में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि फिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर श्वेत पत्र जारी करने की मांग कर रहा हूं। कमलनाथ ने सरकार से पांच सवालों के जवाब मांगें हैं, जिनमें कुल कर्ज, हर नागरिक पर औसत कर्ज, कर्ज की राशि का कहां और कितना खर्च किया, कर्ज पर कितना ब्याज का भार आया और बढ़ते कर्ज को देखते हुए फिजूल खर्च पर रोक के लिए क्या उपाय किए हैं, शामिल रहेंगे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned