scriptKnow why black deer are the target of poachers | 10 लाख में बिकता है सिर, अंगों से बनती है विशेष दवा, जानिए शिकारियों के निशाने पर क्यों हैं काले हिरण | Patrika News

10 लाख में बिकता है सिर, अंगों से बनती है विशेष दवा, जानिए शिकारियों के निशाने पर क्यों हैं काले हिरण

सींग लगा सिर लाखों का, अंगों की बनती है दवा

भोपाल

Published: May 15, 2022 08:53:28 pm

भोपाल। मध्यप्रदेश के गुना जिले में शिकारियों और पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ के बाद काले हिरणों की एक बार फिर चर्चा हो रही है। गुना और उसके आसपास के क्षेत्रों में ये बहुतायत में पाए जाते हैं. दरअसल काले हिरणों की ऐसी अनेक विशेषताएं हैं जिनके कारण देश और विदेश में इनकी जबर्दस्त डिमांड रहती है। इंटरनेशनल मार्केट में काले हिरण का सिर लाखों में बिकता है और इसके अंगों की दवाई भी बनाई जाती है. यही कारण है कि काले हिरण हमेशा शिकारियों के निशाने पर रहते आए हैं।
hiran_b.png
काले हिरणों की अनेक विशेषताएं हैं
गुना के शिकारियों के पास मांस के साथ काले हिरणों का 5 सिर भी बरामद हुए हैं। उनके अन्य अंग भी जब्त किए गए हैं. एक और तथ्य यह भी है कि शिकारियों ने केवल नर हिरणों को मारा था। खास बात यह है कि पूरे झुंड में नर हिरण सिर्फ एक होता है, यानी शिकारियों ने पूरी प्लानिंग के साथ इनका शिकार किया। वन्य और पुलिस अधि्कारियों को आशंका है शिकारियों के तार अंतरराष्ट्रीय तस्करों से जुड़े हो सकते हैं।
इस शंका की अहम वजह भी है. दरअसल काले हिरण के सभी अंगों की अंतरराष्ट्रीय बाजार में अध‍िक मांग है। काले हिरण के मांस के अलावा खाल, सींग, सिर आदि सभी अंग खासी कीमत पर बेचे जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय गिरोह इन शिकारियों से हिरण के सभी अंगों को खरीदकर ले जाते हैं। काले हिरण की सींग और सिर के तो लाखों रुपए मिलते हैं. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इनकी कीमत 5 से 10 लाख रुपये तक बताई जाती है।
काले हिरण के सींग वाले सिर को घरों में सजाकर रखने को स्टेटस सिंबल माना जाता रहा है. यही कारण है कि हिरण के सींग लगे सिर के लिए लोग लाखों रुपए देने के लिए तैयार रहते हैं और ये अवैध रूप से ही खरीदा जाता है। भारत के रईसों के अलावा विदेश में इनकी मांग अधि‍क है। इसके अलावा काले हिरण के अन्य कई अंगों का दवाओं के लिए भी उपयोग किया जाता है। इसलिए काले हिरण के दांत और नाखून समेत शरीर के अन्य अंगों की भी जमकर तस्करी की जाती है।
काले हिरण को वन्य प्राणी संरक्षण नियम 1972 के तहत अनुसूची-1 में रखा गया है।
इसी बात से काले हिरण की अहमियत आंकी जा सकती है. गौरतलब है कि इस अनुसूची में बाघ, शेर जैसे वन्य प्राणी शामिल हैं। इस अनुसूची में घड़ियाल, डाल्फिन समेत अन्य महत्वपूर्ण वन्य जीव भी रखे गए हैं.
वन अधिकारियों और वन्य प्राणी विशेषज्ञों के अनुसार काले हिरण जंगल या पहाड़ी इलाके में ज्यादा नहीं रहते. पहाड़ी क्षेत्रों की बजाए समतल और घास वाले क्षेत्र इन्हें ज्यादा रास आते हैं, यही कारण है कि ये लोगों के लिए सबसे आसान शिकार भी माने जाते हैं। गुना के साथ अशोकनगर में भी ये हिरण बहुतायत में हैं. बताते हैं कि इन दोनों जिलों में काले हिरणों की संख्या करीब 10 हजार है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

गुलाम नबी ने कांग्रेस को दिया झटका, ठुकराया JK कैंपेन कमेटी का पद, बताया ये कारणकलकत्ता हाईकोर्ट की कड़ी टिप्पणी, कहा - 'पश्चिम बंगाल में बिना पैसे दिए नहीं मिलती सरकारी नौकरी'Jammu-Kashmir News: शोपियां में फिर आतंकी हमला, CRPF के बंकर पर ग्रेनेड अटैकओडिशा के 10 जिलों में बाढ़ जैसे हालात, ODRAF और NDRF की टीमों को किया गया तैनातकैबिनेट विस्तार के बाद पहली बार नीतीश कैबिनेट की बैठक, इन एजेंडों पर लगी मुहरशिमला में सेवाओं की पहली 'गारंटी' देने पहुंचेगी AAP, भगवंत मान और मनीष सिसोदिया कल हिमाचल प्रदेश के दौरे परममता बनर्जी के ट्विटर प्रोफाइल में गायब जवाहर लाल नेहरू की तस्वीर, बरसी कांग्रेसमुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, गुजरात के भरूच में पकड़ी ‘नशे’ की फैक्ट्री, 1026 करोड़ के ड्रग्स के साथ 7 गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.