कृष्ण और शिव प्रेम का इन तरीकों से किया पेश

कृष्ण और शिव प्रेम का इन तरीकों से किया पेश

hitesh sharma | Publish: Sep, 10 2018 11:24:42 PM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

भारत भवन में आयोजित वादल राग-16 में ओडिसी और कथक नृत्य की हुई प्रस्तुतियां

 

भोपाल। भारत भवन में आयोजित बादल राग-16 में दो नृत्य प्रस्तुतियां हुईं। पहली प्रस्तुति मुंबई से आईं रविन्दर खुराना की ओडिसी नृत्य की प्रस्तुति दी। उन्होंने सोलो परफॉर्मेंस की शुरुआत गणेश वंदना विनायक शरण्य से की। मौसम के मिजाज को देखते हुए उन्होंने राग मेघ पल्लवी और मंगला ध्वनि पल्लवी पेश किया। इसे शुद्ध रूपी नृत्य कहा जाता है। आखिरी प्रस्तुति में स्वागतम कृष्णा में श्रीकृष्ण के स्वागत किया। उन्होंने करीब चालीस मिनट की प्रस्तुति दी। रविन्दर ने बताया कि वे भोपाल में 20 साल बाद अपनी परफॉर्मेंस देने आई हैं।

bahrat bhawan badal raag-16bahrat bhawan badal raag-16bahrat bhawan badal raag-16

कार्यक्रम की दूसरी प्रस्तुति में पुणे से आई कथक नृत्यागंना शमा भाटे और पांच साथी कलाकारों ने दी। प्रस्तुति की शुरुआत शिव वंदना से हुई। इसमें उन्होंने आदिशंकराचार्य की रचना शिवाष्टक के माध्यम से शिवजी की अनंत रूपों को नृत्य का वर्णन किया। जिसके बोल तस्मय नम: परम कारण कारणाय थे। नृत्य में उन्होंने शिव के मूर्त-अमूर्ति स्वरूप, डमरू से सृष्टि निर्माण का बखान किया।

इसके बाद रूपक ताल सात मात्रा ताल में उठान, परन, ठाठ के साथ तत्कार पेश किया। अगली प्रस्तुति राग मल्हार में तराना और समधुन बंदिश पर दी। नृत्य के माध्यम से उन्होंने दिखाया कि कैसे नायिका प्रीतम की बाहों में खुद को सुरक्षित महसूस करती है। तब घनघोर बारिश भी उसे आनंदायी महसूस होती है।

 

bahrat bhawan badal raag-16bahrat bhawan badal raag-16

मेघों ने रोका नायिका का रास्ता

अपनी प्रस्तुति को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कजरी पेश की। जिसके बोल थे बैरन बही बरखा...। इस प्रस्तुति में उन्होंने शृंगार की हुई नायिका का उस स्थिति का वर्णन किया, जब वह प्रेम से मिलने जा रही होती है। अचानक हुई बारिश उसकी राह में बाधा बन जाती है। वह शृंगार भी धुल जाता है। नृत्य के जरिए वह उन बादलों को कोसती है। इसके बाद पं. भीमसेन जोशी की बाजे मुरलिया बाजे... थी। इस नृत्य के माध्यम से कृष्ण संगीत के प्रेम और भाव को दर्शाया गया। राग भैरवी में चतुरंग के साथ प्रस्तुति को विराम दिया।

Ad Block is Banned