गर्मी में पुल के नीचे बैठे 300 से अधिक मजदूरों को नहीं मिल रहा भोजन,देखें वीडियो

इन मजदूर परिवारों को दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं हो रहा है।

By: Amit Mishra

Updated: 18 Apr 2020, 02:12 PM IST

बृजेश शर्मा की रिपोर्ट...
भोपाल। देशभर में लॉकडाउन का दूसरा चरण जारी है। 3 मई तक जारी रहने वाले लॉक डाउन में दिहाड़ी मजदूरों को सबसे अधिक परेशानी उठानी पड़ रही है। लालघाटी इलाके में करीब 70 परिवार लॉकडाउन के बाद आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। इन मजदूर परिवारों को दो वक्त का खाना भी नसीब नहीं हो रहा है।

सरकारी मदद न मिलने से भूख से परेशान
पत्रिका को जानकारी मिली थी कि लालघाटी में नवनिर्मित ब्रिज के नीचे 300 से अधिक लोग जिनमें महिलायें, बुज़ुर्ग और बच्चे शामिल हैं सरकारी मदद न मिलने से भूख से परेशान है। जिसके बाद पत्रिका की टीम ने मौके पर पहुचकर मजदूरों का हाल जाना जिसमें यह बात सामने आई कि लॉकडाउन के बाद इन लोगों के पास कोई रोजगार नहीं है और दो दो वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो रही है।

 

शासन-प्रशासन से मदद की गुहार
मजदूरों ने बताया कि यह लोग दिन भर इंतज़ार करते हैं कि कोई इन्हें खाने को भोजन दे या सरकारी सहायता मिले लेकिन मजदूरों को न भोजन मिल पा रहा है और न ही कोई सरकारी मदद। मजदूरों ने पत्रिका के माध्यम से शासन-प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है।

 

गर्मी में पुल के नीचे बैठ कर रहे भोजन का इंतज़ार
बुजुर्ग, महिलाएं और बच्चों के साथ मजदूर गर्मी में भी 24 घंटे पुल के नीचे बैठकर मदद का इंतज़ार कर रहे हैं। मजदूरों को कहना है कि इस सड़क का पर लोगों का नियमित आवागमन होता है इसलिये हम यहां बैठें रहते हैं कि कोई हमें यहां से निकलते समय देख ले और मदद कर दे।

 

नहीं मिली कोई सरकारी सहायता
लॉकडाउन के एलान के बाद सरकार ने गरीब वर्ग को मदद का वादा किया था लेकिन पुल के नीचे बैठे मजदूरों ने अपनी परेशानी पत्रिका को बताते हुए कहा कि सरकार की तरफ से अब तक न किसी ने उनसे मुलाकात की और न ही उन्हें कोई मदद मिली। बुज़ुर्ग महिला सागर बाई और मजदूर चंदन सिंह ने सरकार से गुजारिश की है उन्हें व उनके साथियों को सरकारी मदद की जाये ताकि दो वक्त की रोटी मिल सके।

Amit Mishra
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned