किसान आंदोलन: राजधानी में कम आया डेढ़ लाख लीटर दूध, सब्जियों की आवक भी घटी

किसान आंदोलन: राजधानी में कम आया डेढ़ लाख लीटर दूध, सब्जियों की आवक भी घटी

By: दीपेश तिवारी

Published: 03 Jun 2018, 12:05 PM IST

भोपाल। प्रदेश में किसान आंदोलन के दूसरे दिन शनिवार को भोपाल दुग्ध संघ में 1.50 लाख लीटर दूध कम पहुंचा। दो दिन पहले तक 4.10 लाख लीटर दूध रोजाना पहुंच रहा था। इसके बावजूद शहर में सांची दूध की सप्लाई पर कोई असर नहीं हुआ। वजह यह है कि अभी सप्लाई की डिमांड से ज्यादा दूध आ रहा है। इन दिनों शहर में दुग्ध संघ 2.25 लाख लीटर दूध सप्लाई कर रहा है। शनिवार को भी शुजालपुर, आष्टा और सीहोर समेत आसपास के इलाकों की समितियों से किसानों का दूध नहीं पहुंचा। दुग्ध संघ के सीईओ आईएएस अभिषेक सिंह का कहना है कि हमारे पास दूध पहले से ही ज्यादा आ रहा है। 1600 मीट्रिक टन पाउडर और इससे ज्यादा मक्खन उपलब्ध है।

5 हजार क्विंटल ही आई फल सब्जी
किसानों के गांव बंद आंदोलन का आंशिक असर शनिवार को करोंद मंडी में देखने को मिला। जिससे शहर में दूध और सब्जियों की आवक आम दिनों की अपेक्षा कम रही। आम दिनों की तुलना में यहां व्यापार करने वाले किसानों की संख्या 7 हजार से घटकर पांच हजार रही। 10 हजार क्विंटल आने वाली फल-सब्जी, शनिवार को 5 हजार क्विंटल ही आ सकी। आंदोलन की आहट को देखते एडीएम जीपी माली और एसडीएम मुकुल गुप्ता ने कृषि उपज मंडी करोंद का निरीक्षण किया। एडीएम इस दौरान काफी देर मंडी में रहे। रोजाना 14 हजार क्विंटल प्याज और लहसुन आता था। शनिवार को 500 क्विंटल प्याज आया। लहसुन नहीं आया।

ये रही स्थिति:
भोपाल के व्यापारियों का कहना है कि किसान सामान्य रुप से तो आ रहे हैं. लेकिन ज़िले के बाहर के किसान और कुछ स्थानीय किसान नहीं पहुंचने से 30 से 40 फीसदी का असर पड़ा है. हालांकि उनका कहना है कि आने वाले दिनों में ज़रुर सब्जियों के दाम बढ़ने की आशंका है.

वहीं किसान आंदोलन के लिए संवेदनशील माने जा रहे मंदसौर में गांव बंद का असर बेहद ही कम दिखाई दे रहा है. पहले दिन से ही किसान आंदोलन की हड़ताल का जिलेभर में आंशिक असर है. कई जगह सब्जी मंडी में सब्जियों की नीलामी चालू है

इससे पहले आंदोलन के पहले दिन ही फलों, सब्जियों और दूध की सप्लाई बंद करने की ख़बरों के बीच चहल-पहल शुरू हो गई है. इंदौर में पुलिस की सुरक्षा के बीच दूध की सप्लाई शहर में की जा रही है. प्लांट से निकलने वाले सभी वाहनों को पुलिस वाहनों के साथ ही शहर में भेजा जा रहा है.

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश सहित देश के कई राज्यों में किसान बंद आंदोलन आज से शुरू हो गया है. मध्य प्रदेश के मंदसौर गोलीकांड के एक साल पूरे होने पर किसान संगठनों द्वारा गांव बंद का ऐलान हुआ था.

जानिये सीएम के गृह जिले की स्थिति...
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में गांव बंद किसान आंदोलन शुरूआती दौर में ही अप्रभावी रहा. यहां दूसरे दिन भी जिला मुख्यालय की सबसे बड़ी होलसेल सब्जी मंडी आम दिन की तरह खुली और सब्जी उत्पादक किसान काफी मात्रा में सब्जी लेकर पहुंचे.

मंडी में स्थानीय और बाहर से व्यापारियों ने सब्जी खरीदी. जिले की आष्टा और नसरुल्लागंज समेत सभी मंडियां भी सामान्य दिन की तरह चली. व्यापारियों ने खुद कहा की किसान स्वेच्छा से आए हैं.

इसके आलावा राजधानी भोपाल में दूसरे दिन मंडियों में किसान आम दिनों की तरह ही सब्जी लेकर मंडी में पहुंचे. हालांकि कुछ किसान नहीं आने से आंशिक असर नज़र आया. व्यापारियों का कहना है कि किसान सामान्य रुप से तो आ रहे हैं. लेकिन ज़िले के बाहर के किसान और कुछ स्थानीय किसान नहीं पहुंचने से 30 से 40 फीसदी का असर पड़ा है. हालांकि उनका कहना है कि आने वाले दिनों में ज़रुर सब्जियों के दाम बढ़ने की आशंका है.

वहीं किसान आंदोलन के लिए संवेदनशील माने जा रहे मंदसौर में गांव बंद का असर बेहद ही कम दिखाई दे रहा है. पहले दिन से ही किसान आंदोलन की हड़ताल का जिलेभर में आंशिक असर है. कई जगह सब्जी मंडी में सब्जियों की नीलामी चालू है.

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned