कानून की दहलीज पर पहुंची 'चीनी एजेंट' की 'लड़ाई'

मध्यप्रदेश की सियासत ने एक बार फिर करवट बदली है। बीते कई दिनों से प्रदेश में चीन को लेकर हो रही सियासत अब कानून की दहलीज तक पहुंच गई है..

By: Shailendra Sharma

Published: 01 Jul 2020, 05:47 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में 24 सीटों पर होने वाले उपचुनाव (by election 2020) से पहले सियासत का रंग और तरीका दिन ब दिन बदलता जा रहा है। कभी उपचुनाव में स्थानीय मुद्दे हावी हुआ करते थे लेकिन अब स्थानीय तो छोड़िए विदेश के मुद्दे को लेकर प्रदेश में उपचुनाव की बिसात बिछाई जा रही है। भारत-चीन सीमा (india-china border) पर बढ़े विवाद के बाद चीन (china) के प्रति देश के लोगों का गुस्सा देख बीजेपी (bjp) और कांग्रेस (congress) दोनों ही चीन को लेकर सियासत करने में जुट गए और एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप लगाए। इसी आरोप प्रत्यारोप के बाद अब 'चीनी एजेंट' (china agent) की लड़ाई कानून की दहलीज तक जा पहुंची है।

 

'चीनी एजेंट' पर बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष को कानूनी नोटिस
पूर्व सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (kamalnath) ने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा (vd sharma) के उस बयान को लेकर कानून का दरवाजा खटखटाया है जिसमें बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने कमलनाथ को चीनी एजेंट बताया था। कमलनाथ की ओर से वीडी शर्मा को एक कानूनी नोटिस भी भेजा गया है। वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा की ओर से भेजे गए इस नोटिस में वीडी शर्मा से उस बयान के लिए माफी मांगने की बात लिखी है जिसमें वीडी शर्मा ने कमलनाथ को चीनी एजेंट बताया था। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा को भी ठीक इसी तरह का एक नोटिस कमलनाथ की ओर से भेजा गया है।

 

vd_sharma.jpg

वीडी शर्मा ने कमलनाथ को बताया था 'चीनी एजेंट'
बता दें कि बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा ने बीते दिनों अपने एक बयान में कमलनाथ को चीनी एजेंट बताते हुए उन पर बड़ा हमला बोला था और कमलनाथ के खिलाफ प्रदेशभर में बीजेपी के प्रदर्शन का भी ऐलान किया था। प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा के इस ऐलान के बाद पूरे प्रदेश में कमलनाथ के खिलाफ प्रदर्शन हुए थे और उनका पुतला फूंका गया था।

 

prabhat_jha.jpg

प्रभात झा ने भी बताया था 'चीनी एजेंट'
बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष वीडी शर्मा की ही तरह प्रभात झा ने भी कमलनाथ पर चीनी एजेंट होने का आरोप लगाया था। बीजेपी की वर्चुअल रैली के बाद प्रभात झा ने कांग्रेस नेता कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा था यूपीए सरकार में कमलनाथ चाइना के एजेंट बनकर वाणिज्य मंत्री के तौर पर काम कर रहे थे। साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि चाइना की आयात शुक्ल को कम करने के साथ-साथ उस राशि को राजीव गांधी फाउंडेशन में जमा करने का काम भी कमलनाथ ने ही किया था।

कांग्रेस ने किया था पलटवार
कमलनाथ पर बीजेपी के इस आरोप पर कांग्रेस की तरफ से भी पलटवार किया गया था तब कांग्रेस ने कहा था कि भाजपा पहले शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री के रूप में सितम्बर 2011 की चीन यात्रा को देख ले। इसके बाद वर्ष 2016 की 19 जून से 23 जून तक की 5 दिवसीय चीन यात्रा को देख ले। शिवराज सिंह का 26 जून 2016 का चीन को लेकर किया ट्वीट भी पढ़ लेना चाहिए। कांग्रेस ने यह भी कहा कि प्रदेश में निवेश को लेकर व योजनाओं में सहायता को लेकर किस प्रकार से चीन जाकर शिवराज सिंह ने गुहार लगाई थी। इंदौर में संपन्न ग्लोबल इन्वेस्टर मीट के दौरान इंदौर के पीथमपुर में चीनी कंपनियों के लिए अलग से जमीन रखवा कर उन्हें विशेष रियायतें प्रदान की थी। कांग्रेस ने यह भी कहा कि जब नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने चार बार चीन की यात्रा की थी और प्रधानमंत्री बनने के बाद उन्होंने पांच बार चीन की यात्रा की।

Kamal Nath
Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned