Weather: पांच संभागों में घना कोहरे का अलर्ट, यहां ओले भी गिरेंगे

मध्यप्रदेश के कई संभागों के जिलों में छाने वाला है घना कोहरा, कई जिलों में बारिश और ओले भी गिर सकते हैं...।

By: Manish Gite

Updated: 03 Jan 2020, 07:35 PM IST

भोपाल। मध्यप्रदेश के मध्य और पूर्वी हिस्से में बारिश और गरज चमक के साथ बारिश का दौर जारी रहेगा। अगले 24 घंटों के दौरान विदर्भ से लगे पूर्वी और दक्षिण-पूर्व हिस्से में ओलावृष्टि की भी आशंका है। कड़ाके की ठंड के बीच शिवपुरी में सबसे कम तापमान दर्ज किया गया।

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक मध्यप्रदेश के कई जिलों में बारिश का दौर जारी है और कड़ाके की ठंड भी पड़ रही है। इसके साथ ही अगले 24 घंटों के दौरान कई जिलों में बारिश, ओलावृष्टि की आशंका है। मध्यप्रदेश में कड़ाके की ठंड जारी है, सबसे कम तापमान शिवपुरी में 5 डिग्री से. रिकार्ड किया गया।

 

यहां हुई बारिश
मालंजखंड में 24 मिमी बारिश हुई, जबकि टीकमगढ़ में 19 मिमी, सतना में 16 मिमी, रीवा में 10 मिमी, पचमढ़ी में 8 मिमी और नरसिंहपुर में 8 मिमी बारिश दर्ज की गई। कई अन्य हिस्सों में हल्की बारिश और गरज-बौछारें देखी गई।

-यह वर्षा शुष्क उत्तर-पूर्वी हवाओं की उपस्थिति में हुई क्योंकि पूर्वी मध्य प्रदेश में बंगाल की खाड़ी पर आर्द्र दक्षिण-पूर्वी हवाएँ मिल रही है। इसके अलावा, उत्तरी मध्य प्रदेश में एक ट्रफ रेखा भी दक्षिणी गुजरात से झारखंड तक फैली हुई थी। इन मौसमी सिस्टम के कारण मध्य प्रदेश में वर्षा असर देखा गया।

राज्य के पूर्वी भागों में दिन के तापमान में 2 से 3 डिग्री की वृद्धि हो सकती है और अगले 24 से 48 घंटों के दौरान न्यूनतम तापमान में एक से तीन डिग्री की मामूली गिरावट भी देखी जा सकती है।

 

यहां रहेगा कोहरा
अगले 24 घंटों के दौरान सागर, रीवा, शहडोल, ग्वालियर एवं चम्बल संभागों के जिलों में कहीं-कहीं घना कुहरा तथा उज्जैन इंदौर, भोपाल संभागों के जिलों में हल्के से माध्यम कुहरा छाने की संभावना है और रीवा, शहडोल संभागों के जिलों में तथा कटनी, बालाघाट, छतरपुर, टीकमगढ़ जिलों में वर्षा या गरज चम्बल के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।

 

द्रोणिका ने बदला मौसम
-दक्षिण-पश्चिम उत्तर प्रदेश से पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश होता हुआ उत्तर आंतरिक ओडिशा तक औसत समुद्र स्तर से ऊपर 2.1 और 3.1 किमी के बीच की एक द्रोणिका बनी हुई है एवं उत्तरी छतीसगढ में भी औसत समुद्र तल से 1.5 और 2.1 किमी ऊपर बनी हुई है।

-औसत समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर ऊपर उत्तरी आंतरिक तमिलनाडु से आंतरिक कर्नाटक,मराठावाड़ा और पूर्वी विदर्भ होती हुई उत्तर-पूर्व मध्यप्रदेश तक भी एक द्रोणिका बनी है।

एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ द्वारा पश्चिमी हिमालय क्षेत्र को 05 जनवरी से प्रभावित करने की संभावना है। अब, एक कोन्फ़्लुएन्स जोन धीरे-धीरे पूर्व दिशा की ओर जाएगा, जिससे बारिश कम हो जाएगी। हालांकि, राज्य के पूर्वी हिस्सों में आज भी एक-दो जगह मध्यम बारिश के साथ छिटपुट हल्की बारिश जारी रह सकती है। कल तक यानि 4 जनवरी को मौसम साफ हो जाएगा।

 

पिछले 24 घंटों का हाल
मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के शहडोल, रीवा, सागर, जबलपुर संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर, इंदौर और होशंगाबाद संभागों के जिलों में कहीं कहीं हल्की बारिश दर्ज की गई, जबकि शेष जिलों में मौसम शुष्क रहा।

यहां हुई बारिश
कटंगी में 5, बलदेवगढ़ में 4, छतरपुर, अमरकंटक, सतना, पन्ना, टीकमगढ़, मलाजखंड में 2, अमरवाड़ा, नैनपुर, नरसिंहपुर, रीवा और सीधी में 1 सेमी बारिश दर्ज की गई।

Weather forecast
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned