लॉक डाउन से रुकी फलों की आवक फिर भी कीमतों में आई गिरावट

बाहर से ट्रक आना हुए बंद

भोपाल। कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन होने से फल कारोबार पर भी असर देखने को मिल रहा है । कई राज्यों से फलों की आवक रुकने लगी है। फिलहाल मंडी में सीजनल फलों में संतरा, तरबूज, शक्कर बट्टी और कम मात्रा में अंगूर की आवक हो रही है। कोरोना वायरस के कारण वाहनों को चलने से प्रतिबंधित किया गया है। इसके चलते बाहर के राज्यों से फलों की आवक रुकने लगी है। राजधानी की मंडी में फलों का कारोबार करने वालों का कहना है कि पिछले 1 हफ्ते से कई प्रकार के फलों की आवक घटी है। कर्नाटक से आने वाला पाइनापल एवं मालेगांव सदाना से आने वाले अनार की आवक बंद हो गई है जबकि अंगूर की आवक महाराष्ट्र से बहुत कम हो रही है। गुजरात तरफ से आने वाले फलों की आवक भी बंद है। कारोबारियों का कहना है कि वही गाड़ी आ रही है जो ट्रांसपोर्ट अपनी रिस्क पर भेज रहे हैं। वाहनों में किसी प्रकार की तोडफ़ोड़ नहीं हो इसको लेकर उनके मन में डर बना हुआ है। मंडी में इस समय शुजालपुर, शाजापुर से संतरे की आवक हो रही है लेकिन कश्मीर तरफ से आने वाले सेबफल की आवक पूरी तरह से बंद है ।

फल कारोबारी संतोष गुप्ता का कहना है कि सीजनल फलों में तरबूज संतरा ही आ रहा है। उन्होंने बताया कि संतरा 2 दिन पहले तक होलसेल में ₹30 किलो तक बिक रहा था जो घटकर शुक्रवार को ₹20 किलो पर आ गया। उनका कहना है कि मौसम के कारण संतरे की डिमांड एकदम से कम हो गई है साथ ही आवक कमजोर होने से जो माल स्टॉक में रखा हुआ है उसे भी खाली किया जा रहा है। फिलहाल सेवफल के भाव थोक में 80-85 रुपए किलो ही बने हुए हैं ।
3 घंटे खुल रही है मंडी

जिला प्रशासन के सख्त निर्देशों के चलते फल बाजार भी मात्र 3 घंटे के लिए खोला जा रहा है वैसे मंडी खोलने का समय प्रशासन ने सुबह 6 से 9,30 बजे तक का किया हुआ है लेकिन कारोबारी 3 घंटे में ही नीलामी सौदा करके मंडी से बाहर हो रहे हैं। इसका कारण सड़क पर सख्ती भी बताया जा रहा है ।
अब तक नहीं आया आम

हर साल मार्च के महीने में तेज धूप पड़ते ही यूपी लाइन से आम की आवक शुरू हो जाती है लेकिन इस बार आम की आवक रुकी हुई है । बंद के चलते और फसल लेट होने से आम की आवक अब तक नहीं हो पा रहा है।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned