बाजारों में भीड़ काबू करने लगाए लाउडस्पीकर, दुकानों कर रहे सैनिटाइज, शोरूम में बैठने की व्यवस्था बदली

- 86 दिन बाद आज से एक साथ खुलेगा पूरा बाजार, व्यापारियों, प्रशासन ने की व्यवस्था, भीड़ कंट्रोल करने की तैयारी पूरी

भोपाल. कोरोना संक्रमण काल में शहर के नए, पुराने और बैरागढ़ बाजारों में व्यवस्था लगातार बदलती जा रही है। सोमवार से एक बार फिर बदली हुई व्यवस्था में पांच दिन बाजार खुलने जा रहा है। 86 दिन बाद एक साथ बाजार पूरी तरह से खुलेंगे, जिसमें सभी प्रकार की दुकानें एक साथ खोली जाएंगी। खरीदार को दिन देखकर बाजार जाने की जरूरत नहीं होगी। व्यापारियों ने बाजारों में भीड़ काबू करने के लिए चौक बाजारा, सराफा, आजाद मार्केट, जुमेराती, हनुमानगंज सहित कई अन्य बाजारों में लाउडस्पीकर लगाए गए हैं। व्यापारी और पुलिसकर्मी मिलकर ही इस व्यवस्था को चलाएंगे। चौक बाजार में चार्र्किंग की व्यवस्था में सुधार किया जा रहा। कई जगह बाजारों के बड़े शोरूम में ग्राहकों के बैठने की व्यवस्था में बदलाव किया गया है। सोशल डिस्टेंस का पालन कराते हुए उचित दूरी पर व्यवस्था बनाई गई है। बाजारों में आज से सर्किल वाइज अधिकारी भी निगरानी करेंगे। डायल 100 भी लगातार निगरानी बनाए रखेगी। जिन बाजारों में कैमरे लगे हैं वहां पुलिस कंट्रोल रूम से निगरानी होगी।

एक जून के बाद लगभग बाजार खुल चुका है, अगर कुछ बाकी है तो वह है चौपाटी, हॉकर्स कॉर्नर, चाय, नाश्ते के ठेले की दुकानें। अगल चरण में इनके खोले जाने का नंबर है। लेकिन जैसे-जैसे इनमें छूट दी जा रही है। सोशल डिस्टेंस और मास्क के नियमों का पालन कराने की चुनौती बढ़ती जा रही है। लोगों को भी खुद कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस के नियमों का पालन करना अनिवार्य है। अगर लोग भी अपनी जिम्मेदारी समझें तो स्थिति में काफी सुधार हो सकता है।

प्रशासन के साथ व्यापारी भी अलर्ट
बाजार खुलने के बाद प्रशासन के साथ व्यापारी भी अलर्ट हैं। वे खुद दुकानों पर नियमों का पालन कराएंगे। भोपाल किराना व्यापारी महासंघ के महासचिव अनूपम अग्रवाल ने बताया कि सभी व्यापारी इस व्यवस्था को सफल बनाने के लिए तैयार हैं। पांच दिन दुकानें खोलने के बाद दो दिन सम्पूर्ण लॉकडाउन के नियमों का पालन किया जाएगा।

प्रवेंद्र तोमर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned