सर्दी के बीच बैतूल और सारणी में तेज बारिश, 1967 में निर्माण के बाद पहली बार जनवरी में भी छलका सतपुड़ा बांध

सबसे ज्यादा नुकसान बैतूल जिले में हुआ, छतरपुर जिले में सर्दी से एक युवक की मौत

भोपाल@पत्रिका टीम. कड़ाके की ठंड के बीच पिछले 24 घंटे में प्रदेश में कई स्थानों पर तेज बारिश हुई। सबसे ज्यादा नुकसान बैतूल जिले में हुआ। कई क्षेत्रों में चने के आकार के ओले गिरे। तेज हवाओं से बैतूल-परासिया हाईवे पर कई पेड़ धराशायी हो गए। सारणी और आसपास रात में 6 घंटे में 48 मिमी पानी बरसा। इससे गुरुवार को राजडोह नदी में बाढ़ जैसे हालात बन गए। कैचमेंट क्षेत्र में पानी बरसने से तवा नदी का जलस्तर बढ़ गया। नतीजन सतपुड़ा बांध का एक गेट खोलना पड़ा। वर्ष 1967 में बांध के निर्माण के बाद से यह पहला मौका है, जब जनवरी में बांध के गेट खोलने की स्थिति बनी हो।
गुरुवार को रतलाम में सीवियर कोल्ड तो शिवपुरी, गुना, धार, बैतूल और नरसिंहपुर में कोल्ड-डे रहा। शहडोल, जबलपुर, रीवा और सागर संभाग के कई जिलों में बौछारें पड़ीं। मौमस विभाग ने अगले 24 घंटे में होशंगाबाद संभाग के जिलों के साथ बुरहानपुर, गुना, शिवपुरी, नीचम और मंदसौर में बारिश की संभावना जताई है। सागर, रीवा, ग्वालियर, चंबल संभाग में बेहद घना कोहरा रहने का अनुमान है। इसके लिए यलो अलर्ट जारी किया है। कुछ स्थानों पर ओले भी गिर सकते हैं।

हवाई सेवा: 38 मिनट हवा में चक्कर लगाता रहा विमान
खराब मौसम के कारण गुरुवार को राजधानी भोपाल में 8 विमान घंटों देरी से आ-जा सके। इंदौर में सुबह विजिविलिटी (दृश्यता) घटकर 50 ही रह गई। गो एयर की कोलकाता से इंदौर आने वाली उड़ान दृश्यता कम होने से लैंड ही नहीं कर सकी। पायलट विमान को 38 मिनट तक हवा में ही चक्कर लगाते रहे। आखिरकार विमान को अहमदाबाद ले जाना पड़ा। चार अन्य उड़ानें भी घंटों प्रभावित हुईं।

कहां कितनी बारिश
बैतूल 40.8
मलाजखंड 47.3
नरसिंहपुर 12
उमरिया 12.8
जबलपुर 11.6
सिवनी 16.4
सागर 9.8
(नोट: बुधवार सुबह 8.30 बजे से गुरुवार सुबह 8.30 बजे तक बारिश...आंकड़े मिमी में)

6 जिलों में स्कूलों की छुट्टी
भीषण ठंड को देखते हुए देवास, उज्जैन, रतलाम, नीमच, मंदसौर, राजगढ़ में 3 व 4 जनवरी को सरकारी व निजी स्कूलों में अवकाश घोषित किया गया है।

तेज सर्दी से एक की मौत
छतरपुर जिले में लवकुशनगर के अटकौंहा में एक युवक की ठंड से मौत हो गई। अशोक पिता तुल्ली राजपूत (30) फसल की रखवाली कर रहा था। इस दौरान तेज सर्दी से उसकी तबियत बिगड़ी। अस्पताल ले जाते वक्त उसने दम तोड़ दिया।

रविकांत दीक्षित
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned