scriptMadhya Pradesh ranks 5th in the country in terms of beggars | तमाम योजनाओं के बाद भी भिखारियों के मामले में मध्यप्रदेश देश में 5वें स्थान पर | Patrika News

तमाम योजनाओं के बाद भी भिखारियों के मामले में मध्यप्रदेश देश में 5वें स्थान पर

स्माइल प्रोजेक्ट के तहत उनके चेहरों पर मुस्कान लाने की कवायद

भोपाल

Published: January 05, 2022 11:34:32 pm

भोपाल। राज्य में भिक्षावृत्ति समाप्त हो, इस धंधे में लगे लोगों का पुनर्वास कर उन्हेंं समाज की मुख्य धारा से जोडऩे के लिए कई कार्यक्रम चले लेकिन स्थिति में अधिक सुधार नजर नहीं आता। यह स्थिति तब है जब मध्यप्रदेश में भिक्षावृत्ति निवारण अधिनियम लागू है। इसके तहत भीख मांगना दण्डनीय अपराध है। इसके बावजूद भी धार्मिक स्थलों, चौक चौराहों पर भिखारियों का जमावड़ा रहता है। खाना बदोश और भिखारियों के मामले में मध्यप्रदेश की स्थिति चिंताजनक है। इसमें मध्यप्रदेश पांचवे स्थान पर है। यह स्थिति तब है जब मध्यप्रदेश में गरीबों के लिए तमाम योजनाएं चलाई जा रही हैं। इसमें मुफ्त भोजन के साथ अन्य सुविधाएं भी फ्री हैं। अब स्माइल प्रोजेक्ट के तहत भिखारियों का पुनर्वास किए जाने की तैयारी है। केन्द्र सरकार के सहयोग से पायलट प्रोजेक्ट प्रदेश के इंदौर शहर में चलाया जा रहा है।
तमाम योजनाओं के बाद भी भिखारियों के मामले में मध्यप्रदेश देश में 5वें स्थान पर
तमाम योजनाओं के बाद भी भिखारियों के मामले में मध्यप्रदेश देश में 5वें स्थान पर
राज्य सरकार का प्रयास है कि भिखारियों को दण्डित न कर उनका पुनर्वास किया जाए। जिससे वे दोबारा भीख मांगने जैसा काम न करें। इस दिशा में काम हो रहा है। इसके लिए स्थानीय निकायों के साथ स्वैच्छिक संगठनों की मदद भी ली जा रही है। इनके सर्वेक्षण, पहचान, लामबंदी, पुनर्वास, चिकित्सा सुविधाओं की व्यवस्था, जागरूकता पैदा करने, शिक्षा, कौशल विकास सहित व्यापक उपाय शामिल हैं। धार्मिक स्थलों, बड़े शहरों में पुनर्वास स्थल बनाए जाने की भी तैयारी है।
इन शहरों में चल रहा है पायलट प्रोजेक्ट -
अधिकृत सूत्रों के मुताबिक केन्द्र सरकार ने जनवरी 2020 में भिक्षावृत्ति के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ, विशेषज्ञों एवं राज्यों के साथ बैठक आयोजित की थी। इस बैठक में भिक्षावृत्ति कर कर रहे लोगों के पुनर्वास पर चर्चा हुई। इसी विचार विमर्श के दौरान देश के सात शहरों के लिए पायलट प्रोजेक्ट शुरू हुआ। इनमें मध्यप्रदेश के इंदौर सहित दिल्ली, बंगलौर, हैदराबाद, लखनऊ, नागपुर और पटना शामिल हैं।
इन राज्यों की स्थिति बेहतर -
देश के सिक्किम, मिजोरम, दमन और द्वीप, दादर और नगर हवेली, लक्षदीप, अण्डमान और निकोवार द्वीप समूह ऐसे राज्य हैं जहां भिखारियों की संख्या नगण्य हैं। इसके विपरीत मध्यप्रदेश में भिखारियों, खानाबदोश लोगों की संख्या 28 हजार से अधिक है। हाल ही में संसद में पेश रिपोर्ट में इसका हवाला दिया गया है।
भिखारियों की स्थिति (टॉप टेन राज्य)
पश्चिम बंगाल - 81244
उत्तर प्रदेश - 65835
आंध प्रदेश - 30218
बिहार - 29723
मध्यप्रदेश - 28695
राजस्थान - 25835
महाराष्ट्र - 24307
असम - 22116
ओडिशा - 17965
गुजरात - 13445

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Corona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करआज जारी होगा कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं के लिए होंगे कई वादे'कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते', अमर जवान ज्योति के वॉर मेमोरियल में विलय पर राहुल गांधीVIDEO: राजस्थान का 35 प्रतिशत हिस्सा कोहरे से ढका, अब रहेगा बारिश और ओलावृष्टि का जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.