40 साल पुरानी विरासत कायम रखना है चुनौती

40 साल पुरानी विरासत कायम रखना है चुनौती

Deepesh Tiwari | Publish: Nov, 09 2018 09:39:29 AM (IST) | Updated: Nov, 09 2018 09:39:30 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र में दोनों प्रत्याशियों के सामने है चुनौती...

भोपाल। होल्ड पर रखी गई गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र पर आखिर में भाजपा और कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी। भाजपा ने जहां विधायक बाबूलाल गौर की बहू कृष्णा गौर को टिकट दिया है वही कांग्रेस ने गिरीश शर्मा को अपना प्रत्याशी घोषित किया है।


भाजपा प्रत्याशी कृष्णा गौर...

महिलाओं के बीच अच्छा चेहरा। पुराने कार्याकर्ताओं का सहयोग मिलेगा। बाबूलाल गौर की विशाल राजनीतिक विरासत का लाभ मिलेगा।

सड़क दुर्घटना बड़ी समस्या
गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र की समस्या बरकरार। क्षेत्र का धीमा विकास। जेके रोड की बड़ी समस्या।बायपास होने के कारण सड़क दुर्घटनाओं की बड़ी समस्या। पुलिस चौकी की समस्या।

प्रोफेशन क्या करते हैं: सक्रिय राजनीति। समाज सेवा।

कमाई का जरिया : मानदेय, वेतन-भत्ते।

सोशल मीडिया: मप्र स्थापना दिवस की पोस्ट आखिरी है।

पहचान: सहज-सरल स्वभाव। मिलनसार व्यक्तित्व, जनता के बीच अच्छी पकड़। महिला, पुरुष, युवा सभी कार्यकर्ताओं के बीच अच्छी पकड़।

राजनीतिक अनुभव : महापौर रही। वर्तमान में पार्टी प्रदेश मंत्री महिला मोर्चा है।

कोर टीम: बारेलाल अहिरवार, पुनीत खाडे, जीतेंद्र शुक्ला।

रेकॉर्ड: पार्टी में शामिल होते ही पर्यटन विकास निगम की अध्यक्ष बन गई थी।
लाइफ स्टाइल पहनावा क्या- साड़ी

निष्पक्ष और सरल स्वभाव का प्रत्याशी गोविंदपुरा का प्रतिनिधित्व करते आया है, एेसा ही इस बार भी प्रत्याशी चुना गया हैं।
शिवलाल प्रजापति, बागसेवनिया

प्रतिद्वंद्वी का बयान
मेरी अच्छी टीम है, कार्यकर्ताओं ने मुझे साथ दिया। मैं जनता से जुड़ा हूं इसलिए टिकट मिला और इसलिए ही जीत भी होगी।
गिरीश शर्मा, कांग्रेस प्रत्याशी, गोविंदपुरा।

 

news 1Patrika .com/upload/2018/11/09/giridsh_3685075-m.png">

कांग्रेस प्रत्याशी गिरीश शर्मा....
युवा चेहरा, सुरेश पचौरी समर्थक, वर्तमान में पार्षद
युवाओं की अच्छी टीम। माता-पिता भी कांग्रेस की सक्रिय राजनीति में रहे हैं। वर्तमान में नगर निगम पार्षद हैं। पहली बार विधानसभा चुनाव के मैदान में हैं।


रोजगार और परिवहन की बड़ी समस्या
गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र की समस्या। अयोध्या नगर क्षेत्र के विकास की समस्या। जर्जर आंतरिक मार्ग की समस्या। 40 साल राज करने के बाद भी गौर ने रोजगार के साधन नहीं बढ़ाए।

सोशल मीडिया पर लेटेस्ट पोस्ट: फेसबुक पर सुरेश पचोरी को टिकट मिलने पर शुभकामनाएं देने वाली पोस्ट।

पहचान: मिलनसार स्वभाव। जनता के बीच अच्छी पकड़। युवा वर्ग का चहेता।

राजनीतिक अनुभव: दो बार के पार्षद माता-पिता राजनीति में सक्रिय रहे। छात्र राजनीति में रहे।

कोर टीम : कृष्णा घाडगे, महेंद्र परमार, मनीष यादव, महेंद्र गुर्जर, राधेश्याम लोधी, रामबाबू शर्मा।

रेकार्ड: अच्छी छवि। क्षेत्र के युवाओं में अच्छी पकड़।

लाइफ स्टाइल पहनावा क्या: कुर्ता पायजामा।

प्रोफेशन क्या करते हैं: प्राइवेट जॉब, राजनीति।

कमाई का जरिया: प्राइवेट जॉब

रोजगार पर ध्यान नहीं दिया गया है। भेल, एम्स जैसे प्रतिष्ठान होने के बाद भी युवाओं को रोजगार के लिए भटकना पड़ता है।
मोहन दीक्षित, इंद्रपुरी

प्रतिद्वंद्वी का बयान
गोविंदपुरा में मैं रोजगार पर सबसे अधिक फोकस करूंगी। यहां अब तक जो विकास हुआ है, वह सबसे अच्छा है। लेकिन अब युवाओं को रोजगार के अवसर कैसे दिया जा सके इस पर मैं फोकस रहूंगी।
कृष्णा गौर, प्रत्याशी भाजपा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned