दुर्गा पूजा: अष्टमी पर मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़, महानवमी आज...जानें शुभ मुहूर्त

दुर्गा पूजा: अष्टमी पर मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़, महानवमी आज...जानें शुभ मुहूर्त
maha navami-2019 and maa siddhidatri puja muhurat

Ravi Kant Dixit | Updated: 06 Oct 2019, 08:39:20 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

महानवमी आज: नवरात्र उत्सव का होगा समापन, जगह-जगह होंगे हवन और भंडारे

भोपाल. राजधानी में इन दिनों नवरात्र का उत्साह चरम पर पहुंच गया है। माता रानी के दरबारों में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लग रही है। रविवार को महाअष्टमी पर शहर में जगह-जगह कन्या पूजन का आयोजन किया गया। घरों और झांकी स्थलों पर कन्याओं की पूजा अर्चना की। कन्या भोज हुआ और हवन का आयोजन किया गया। सोमवार को महानवमी के साथ ही नौ दिवसीय नवरात्र का समापन हो जाएगा। इस दौरान जवारों का विसर्जन होगा और दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन का सिलसिला भी शुरू हो जाएगा।

शारदीय नवरात्रि की नवमी तिथि को महानवमी के नाम से जाना जाता है। इस दिन मां दुर्गा के नौवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री की पूजा होती है। मां सिद्धिदात्री का वाहन सिंह है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवमी के दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से व्यक्ति को सभी देवियों की पूजा का फल मिल सकता है। आइए जानते हैं मां सिद्धिदात्री को प्रसन्न करने का क्या है शुभ मुहूर्त और विधि।

ऐसे करें पूजा-अर्चना

पंडित सत्यनारायण भार्गव के अनुसार, नवमी पर मां सिद्धिदात्री को नवाह्न प्रसाद, नवरस युक्त भोजन, नौ प्रकार के पुष्प और नौ प्रकार के ही फल अर्पित करने चाहिए। सबसे पहले कलश की पूजा कर सभी देवी-देवताओं का ध्यान करना चाहिए। फिर माता के मंत्रों का जाप कर पूजा करनी चाहिए। इस दिन नौ कन्याओं को घर में भोग लगाना चाहिए। नव-दुर्गाओं में सिद्धिदात्री अंतिम है और इनकी पूजा से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है। साथ ही इस तरह से की गई पूजा से माता अपने भक्तों पर तुरंत प्रसन्न होती है।

महानवमी पूजा के शुभ मुहूर्त

  • रात्रि 6:08 से 7:40 चर
  • शाम 4:40 से 6:08 अमृत
  • दोपहर 3:11 से 4:40 लाभ
  • दोपहर 1:43 से 3:11 चर
  • सुबह 9:18 से 10:46 शुभ चौघडिय़ा

स्थिर लग्न मुहूर्त

  • सुबह 9:20 से 11:36 वृश्चिक लग्न
  • दोपहर 3:28 से 5:01 कुंभ लग्न

मां का पूजा मंत्र

सिद्धगन्‍धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि,
सेव्यमाना सदा भूयात सिद्धिदा सिद्धिदायिनी।

  • देवी का बीज मंत्र
    ऊॅं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे नमो नमः ।।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned