यहां ऑड-ईवन फॉर्मूला से खुलेगा बाजार, सीएम ने कहा- कलेक्टर बाजारों पर रखें नजर

सीएम ने कहा- सभी दुकानदार, आम नागरिक और नगर निगम सहित संबंधित सरकारी विभाग विशेष ध्यान रखें।

By: Pawan Tiwari

Published: 03 Jun 2020, 08:48 AM IST

भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लॉकडाउन 5 अर्थात अनलॉक 1.0 में दुकानों के खुलने पर बहुत भीड़ एकत्र न हों और सभी सावधानियाँ जरूरी बरती जायें। इस बारे में सभी दुकानदार, आम नागरिक और नगर निगम सहित संबंधित सरकारी विभाग विशेष ध्यान रखें। इस बारे में कलेक्टर्स को भेजे जा रहे विस्तृत निर्देश भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुरूप तैयार किये गये हैं। इनका कलेक्टर्स द्वारा पालन सुनिश्चित कराया जाये। सार्वजनिक क्षेत्रों में फेस मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग अनिवार्य है। हैण्ड सेनेटाइजर और साबुन से हाथ धोने की व्यवस्था भी दुकानों के पास उपलब्ध करवाई जाये। दुकान पर बिना मास्क के कोई ग्राहक न आ सकेगा।

संभल रहा है मालवा अंचल
समीक्षा के दौरान बताया गया कि इंदौर और उज्जैन में स्थिति में सुधार हो रहा है। राज्य शासन द्वारा की गई व्यवस्थाओं के मुकाबले अस्पतालों में रोगी संख्या काफी कम है। मुख्यमंत्री चौहान के निर्देश पर अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने दो दिन मालवा अंचल में रहकर कोरोना वायरस नियंत्रण के लिये अस्पतालों का निरीक्षण और व्यवस्थाओं के अवलोकन का कार्य किया। इंदौर में अब तक 37 हजार 965 टेस्ट हुये हैं जिनमें 3570 पॉजिटिव पाये गये। इनमें 2029 रिकवर हुये हैं। उज्जैन में अब तक 6906 टेस्ट हुये हैं, जिनमें 692 पॉजिटिव पाये गये हैं। प्रतिदिन पॉजिटिव रोगी की संख्या कम भी हो रही है।


प्रदेश का रिकवरी रेट बढ़कर 62 हुआ
मुख्यमंत्री ने राज्य स्तरीय समीक्षा के दौरान निर्देश दिये कि बाजारों के खुलने से नागरिकों की आवाजाही बढ़ना स्वाभाविक है। इसके साथ ही सभी आवश्यक उपायों से कोरोना वायरस पर नियंत्रण का कार्य लगातार होना चाहिये। स्वास्थ्य आयुक्त फैज अहमद किदवई ने जानकारी दी कि मध्यप्रदेश में कुल 8 हजार 420 कोरोना पॉजिटिव केस पाये गये हैं। अब तक 5 हजार 221 रिकवर हो गये हैं। एक्टिव केस 2 हजार 835 हैं। कल पाये गये पॉजिटिव केस 137 हैं। एक दिन में 218 भर्ती किये गये रोगी डिस्चार्ज हुये हैं। प्रदेश का रिकवरी रेट 62 प्रतिशत है। जबकि देश का रिकवरी रेट 48.1 प्रतिशत है।


जबलपुर में अच्छा नियंत्रण रहा, फिर मई में 8 केस क्यों आये ?
मुख्यमंत्री ने जबलपुर के संबंध में समीक्षा के दौरान कहा कि जबलपुर में 20 मार्च को प्रथम कोरोना पॉजिटिव की जानकारी प्राप्त हुई थी। जिले में नियंत्रण अच्छा रहा, लेकिन किसी भी स्थिति में रोग को छिपाने का कार्य नहीं होना चाहिये। जिले में हुई 10 मृत्यु के संबंध में मुख्यमंत्री ने प्रकरणवार जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि हाल ही में हुई मृत्यु की घटनाओं की समीक्षा कर स्थिति को पूरी तरह नियंत्रित किया जाये। जिले की 10 मृत्यु में 8 मई माह में हुई हैं। कुछ प्रकरण में रोगी के अस्पताल में रहने की अवधि एक या दो दिन है। इसका अर्थ है रोगी की पहचान के कार्य में विलंब हुआ है। इस तरह का विलंब नहीं होना चाहिये।

जबलपुर में नागरिकों में लक्षणों के आधार पर रोग की शीघ्र पहचान, समुचित उपचार और आवश्यक सावधानियाँ बरतने के निर्देश दिये। समीक्षा में बताया गया कि जबलपुर में रिकवरी रेट 70 प्रतिशत से ऊपर है। फ्लू ओपीडी में 3708 रोगी अब तक आये हैं। इनमें 2819 को ऐहतियातन होम आयसोलेशन का परामर्श दिया गया। जिले में 41 क्लीनिक संचालित हैं। अब तक 7 हजार 410 सेम्पल लिये गये हैं जिनमें से 251 पॉजिटिव पाये गये। कलेक्टर और कमिश्नर जबलपुर ने कोरोना वायरस नियंत्रण की विस्तृत जानकारी दी। अधिकारियों ने बतायाकि बाजारों के खुलने की व्यवस्था में ऑड-ईवन फार्मूला उपयोग में लाया जा रहा है। जबलपुर में ऑटो-रिक्शा चलने लगे हैं। सिटी बस संचालन की अनुमति अभी नहीं दी गई है।

coronavirus Coronavirus Outbreak
Show More
Pawan Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned