मावा व्यापारियों की हड़ताल खत्म, कलेक्टर ने कहा सिर्फ यूरिया और केमिकल की मिलावट करने वालों पर होगी FIR

मावा व्यापारियों की हड़ताल खत्म, कलेक्टर ने कहा सिर्फ यूरिया और केमिकल की मिलावट करने वालों पर होगी FIR

KRISHNAKANT SHUKLA | Updated: 14 Aug 2019, 02:49:22 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

बाकी खाद्य पदार्थ अवमानक पाए जाने पर खाद्य सुरक्षा नियमों के तहत होगी कार्रवाई

भोपाल. मिलावटी खाद्य सामग्री बेचने वालों के खिलाफ चल रही खाद्य एवं औषधि प्रशासन एवं पुलिस की संयुक्त कार्रवाई के विरोध में हड़ताल पर गये शहर के मावा कारोबारियों ने कलेक्टर से आश्वासन मिलने के बाद हड़ताल वापस ले ली है।

कलेक्टर का कहना है कि केमिकल, यूरिया या अन्य सिंथेटिक तरीकों दूध, मावा और पनीर बनाने वालों पर ही एफआईआर कराई जाएगी, इमानदारी से काम करने वालों को कोई परेशान नहीं करेगा। बाकी खाद्य पदार्थ अवमनाक पाए जाने पर खाद्य सुरक्षा विभाग अपने नियमानुसार कार्रवाई करेगा। मंगलवार को 15 सैम्पलों की रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसमें से दूध, पनीर सहित अन्य 6 के सैम्पल अवमानक पाए गए हैं।

हड़ताल के बाद कलेक्टर पिथोड़े ने थोक मावा व्यापारियों को बुलाया था। मावा व्यापारियों का एक प्रतिनिधिमंडल संगठन के अध्यक्ष विजय नेमा, सचिव दर्पण जैन के नेतृत्व में कलेक्टर से मिला और अपनी समस्याओं से उन्हें अवगत कराया।

कलेक्टर ने मावा कारोबारियों की मांगों को मानते हुये उन्हें आश्वस्त किया कि अब अवमानक पर एफआईआर नहीं होगी। यूरिया और केमिकल पाए जाने पर ही एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। साथ ही परिवहन हो रहे माल को पुलिस नहीं रोकेगी। खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम को निर्देशित कर दिया गया है कि ईमानदार व्यापारियों को परेशान नहीं किया जाएगा। सैम्पल की कार्रवाई दुकान और निर्माण स्थल से प्राप्त की जाये।

पहले हो जाए जांच, लिखेंगे पत्र

भोपाल में भिंड, ग्वालियर, नरसिंहपुर, शाजापुर, देवास,राजगढ़, रतलाम, उज्जैन व अन्य जिलों से मावा,पनीर और दूध आता है। इन खाद्य पदार्थो की जांच के संबंध में सम्बधित जिलों को पत्र लिखकर अवगत कराया जाएगा कि उन जिलों से निकलने के दौरान या बीच रास्ते में भी इनकी जांच की जाए।

स्काई रिम रेस्टोरेंट, रूफ टॉप से लिया पनीर का सैम्पल फेल

खाद्य सुरक्षा अधिकारियों की टीम की तरफ से की गई जांच में 15 सैम्पलों की रिपोर्ट मंगलवार को प्राप्त हुई है। इसमें से 6 अवमानक पाए गए और 6 सैम्पल पास हो गए हैं। जो सैम्पल अवमानक हैं उनमें स्काई रिम रेस्टोरेंट, रूप टॉप-3 से लिए गए पनीर के सैम्पल अवमानक निकला, फैट की मात्रा कम मिली है। कैलाश दूध डेयरी बस स्टैंड, बैरागढ़ से लिए गए दूध का सैम्पल अवमानक पाया गया है, इसमें भी फैट का प्रतिशत कम पाया गया है।

अप्सरा टॉकीज के पास दशमेव डेयरी से लिए गाय के दूध का सैम्पल भी जांच में अवमानक पाया गया है। इसमें भी फैट की मात्रा कम मिली है। इसी प्रकार हाउसिंग बोर्ड कॉम्पलेक्स, अशोका गार्डन से लिए गए दूध में फैट कम मिला है। गोविंदपुरा इंडस्ट्रीयल एरिया में ब्रेड फैक्ट्री से लिए पॉपुलर ब्राउन बे्रड के सैम्पल में रिफाइंड वेजीटेबल ऑयल का नाम उल्लेखित नहीं है। शिवा फूड के पैकेज्ड वाटर पर यूज के बाद क्रश द बोटल आफ्टर यूज आसानी से नहीं पढ़ा जा सकता। इन सब पर खाद्य सुरक्षा की धारा 26 (2) के तहत कलेक्टर कोर्ट में प्रकरण चलेंगे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned