अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट पहुंचे कुठियाला, नहीं हुई सुनवाई

अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट पहुंचे कुठियाला, नहीं हुई सुनवाई

KRISHNAKANT SHUKLA | Publish: Jun, 19 2019 10:13:12 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

माखनलाल चतुर्वेदी विवि का मामला

भोपाल . माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि के पूर्व कुलपति प्रो बीके कुठियाला ने मंगलवार को भोपाल जिला अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है। हालांकि वकीलों की हड़ताल के कारण सुनवाई नहीं हो पाई है। इधर, ईओडब्ल्यू ने भी कुठियाला की याचिका पर आपत्ति दर्ज करवाई और अग्रिम जमानत नहीं देने के लिए कई तर्क पेश किए।

विशेष न्यायाधीश संजीव पांडे की अदालत में कुठियाला ने याचिका लगाकर कहा कि ईओडब्ल्यू द्वारा उन्हें बार-बार नोटिस देकर बुलाया जा रहा है। जिस प्रकरण में उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया जा रहा है, उसमें वे निर्दोष है और उन्हें गिरफ्तारी की आंशका है।

वहीं, ईओडब्ल्यू ने आपत्ति दर्ज करवाई है कि कुठियाला ही मुख्य आरोपी हैं। उन्हीं के कार्यकाल में अपराध घटित हुआ है। उनसे अभी एक बार भी पूछताछ नहीं हो सकी। बयान नहीं हुए। मामले की विवेचना की जा रही है, इसलिए अग्रिम जमानत देने से विवेचना प्रभावित हो सकती है। अब इस मामले में बुधवार को सुनवाई होगी।

mcu bhopal

गौरतलब है कि कुठियाला को ईओडब्ल्यू तीन बार नोटिस देकर पूछताछ के लिए बुला चुकी है, लेकिन वे एक बार भी नहीं पहुंचे। उन्होंने ईओडब्ल्यू के सामने पंचकुला सिविल अस्पताल का एक मेडिकल सर्टिफिकेट लगाकर बयान के लिए 27 जून तक का समय मांगा था। लेकिन इसी बीच वे अग्रिम जमानत के लिए कोर्ट पहुंच गए।

इसलिए नहीं जा रहे कुठियाला

कुठियाला को डर है कि यदि वे ईओडब्ल्यू पहुंचते हैं तो उन्हें गिरफ्तार कर लिया जाएगा। यह भी बताया जा रहा है कि कुठियाला मंगलवार को भोपाल तो पहुंचे, लेकिन बयान देने इसलिए नहीं गए कि उन्हें अपने वकील ने अग्रिम जमानत की सलाह दी है। कुठियाला हाईकोर्ट जा कर अग्रिम जमानत लेने की तैयारी में हैं। वह इसकी तैयारी भी कर रहे हैं। ईओडब्ल्यू ने भी कुठियाला को घेरने, पूछताछ करने की पूरी तैयारी कर रखी है। मय दस्तावेजों के कुठियाला के कार्यकाल के सारे बिलों की सूची बनाकर इंट्रोगेशन की फाइल बना रखी हैं, ताकि एक-एक बिल और एक-एक धांधली से जुड़े सवाल पूछे जा सके।

कुठियाला को बचने का अवसर नहीं मिले, इसके लिए हर पहलू पर ईओडब्ल्यू की तैयारी है। दस्तावेजों के आधार पर ही पूछताछ की जाएगी। ईओडब्ल्यू के अफसर भी इसलिए खफा है कि दो बार नोटिस देने के बाद भी बयान देने तक नहीं पहुंचे। जबकि दस्तावेजों के आधार पर जितनी जांच की जाना थी, की जा चुकी है। अब सिर्फ कुठियाला के ही बयान लेना बाकी है। अन्य पक्षों के बयान लिए जा चुके हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned