scriptMillions of trees are planted every year, yet the forest is decreasing | हर साल लाखों पौधे लगा रहे, फिर कैसे घट गया जंगल | Patrika News

हर साल लाखों पौधे लगा रहे, फिर कैसे घट गया जंगल

इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट की ताजा रिपोर्ट में खुलासा: भोपाल में हर साल करीब 10 से 12 लाख पौधे लगाते हैं, लेकिन 2019 के मुकाबले -0.11 स्क्वॉयर किलोमीटर वन क्षेत्र घट गया है।

भोपाल

Published: February 17, 2022 01:14:50 am

भोपाल. एक अुनमान के अनुसार करीब 10 से 12 लाख पौध हर वर्ष लगाए जाते हैं, ऐसे में अगर एक लाख पौधे भी जिंदा बचते हैं, तो वन क्षेत्र में इजाफा होना चाहिए। जबकि यह तो घट रहा है। आइएसएफआर की रिपोर्ट विभागों और अफसरों के तमाम दावों को झुठला रही है। हर साल भोपाल में करीब दस लाख से ज्यादा पौधे लगाए जाते हैं, लेकिन फिर भी जंगल घट रहा है। हाल ही में जारी हुई इंडिया स्टेट ऑफ फॉरेस्ट रिपोर्ट (आइएसएफआर-2021) में बताया गया है कि भोपाल में 2019 के मुकाबले -0.11 स्क्वॉयर किलोमीटर वन क्षेत्र घट गया है। ऐसे में वन विभाग, नगर निगम, राजधानी परियोजना प्रशासन (सीपीए), उद्यानिकी विभाग द्वारा सालों से किए जा रहे पौधरोपण सवालों के घेरे में है।

हर साल लाखों पौधे लगा रहे, फिर कैसे घट गया जंगल
हर साल लाखों पौधे लगा रहे, फिर कैसे घट गया जंगल
बारिश से पहले होती है तैयारी
प्रतिवर्ष इन पौधों को अलग-अलग नर्सरियों में तैयार किया जाता है। बारिश के पहले इन्हें लगाने के लिए गड्ढे खोदने से लेकर, खाद-पानी की व्यवस्था की जाती है। फिर बारिश के मौसम में विभागों द्वारा स्वयं और शहर की विभिन्न संस्थाओं के सहयोग से जगह-जगह पौधे लगाए जाते हैं। यह क्रम पिछले कई सालों से चला आ रहा है।
हर साल लाखों पौधे लगा रहे, फिर कैसे घट गया जंगल

आइएसएफआर-2021 की रिपोर्ट के अनुसार भोपाल की यह है हकीकत
(क्षेत्रफल स्क्वायर किमी में)

बहुत घना जंगल - 0.00
मध्यम घने जंगल -120.77
खुला जंगल - 207.79
कुल जंगल - 328.56
2019 के मुकाबले वन क्षेत्र घटा- -0.11
कुल भौगोलिक क्षेत्र- 2772

हर साल कहां कितने पौधे होते हैं तैयार
- 6.5 लाख के करीब पौधे अहमदपुर
नर्सरी में
- 6.5 लाख पौधे बैरसिया स्थित इमलिया नर्सरी में
- 5 लाख पौधे भदभदा नर्सरी में
-17 से 18 लाख पौधे मानसून के पहले तैयार होते हैं
- 10 से 11 लाख पौधे निकलते हैं हर साल वन विभाग की नर्सरियों से
- 50 हजार पौधे नगर निगम लगाता है हर साल
- 30 हजार पौधे हर साल लगाता है उद्यानिकी विभाग
- 50 हजार पौधे सीपीए की चार नर्सरियों में तैयर होते हैं

एक्सपर्ट व्यू: वन क्षेत्र घटने के तीन बड़े कारण हैं...
1- हर साल लाखों पौधे लगाए जाते हैं, लेकिन बड़ा सवाल यह है उनमें से जीवित कितने बचते हैं। ज्यादातर जीवित ही नहीं बचते।
2- अगर दस लाख में से एक लाख पौधे भी बचते हैं तो उन्हें पेड़ बनने में कम से कम सात से दस साल लगेंगे।
3- तीसरा सबसे बड़ा कारण है पेड़ों की अंधाधुंध कटाई। हमारे यहां पहले से मौजूद जो बड़े पेड़ और घने वृक्ष हैं, वे बड़ी संख्या में काटे जा रहे हैं। आज यदि हम एक बड़ा पेड़ काटते हैं तो वह करीब सौ पेड़ों के बराबर क्षति है।
-सुदेश बाघमारे, पूर्व वन अधिकारी एवं विशेषज्ञ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठाLiquor Latest News : पियक्कडों की मौज ! रात एक बजे तक खरीदी जा सकेगी शराबशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफMorning Tips: सुबह आंख खुलते ही करें ये 5 काम, पूरा दिन गुजरेगा शानदारDelhi Schools: दिल्ली में बदलेगी स्कूल टाइमिंग! जारी हुई नई गाइडलाइनMahindra Scorpio 2022 का लॉन्च से पहले लीक हुआ पूरा डिजाइन और लुक, बाहर से ऐसी दिखती है ये पावरफुल कारबैड कोलेस्‍ट्राॅल और डिमेंशिया को कम करके याददाश्त को बढ़ाता है ये लाल खट्‌टा-मीठा फल, जानिए इसके और भी फायदेAC में लगाइये ये डिवाइस, न के बराबर आएगा बिजली बिल, पूरे महीने होगी भारी बचत

बड़ी खबरें

Punjab Borewell Accident: बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, अस्पताल में हुई मौतBJP को सरकार बनाने के लिए क्यूँ जरूरी है काशी और मथुरा? अयोध्या से बड़ा संदेश देने की तैयारी..पश्चिम बंगाल का पूर्व मेदिनीपुर जिला बम धमाकों से दहला, तलाशी के दौरान बरामद हुए 1000 से अधिक बमIPL 2022, SRH vs PBKS Live Updates: पावर प्ले में हैदराबाद ने बनाए 1 विकेट के नुकसान पर 43 रनआम आदमी पार्टी में शामिल होंगे कपिल देव! हरियाणा चुनाव से पहले AAP का बड़ा दांव, केजरीवाल संग फोटो वायरलआख़िर क्यों असदुद्दीन ओवैसी बार-बार प्लेसेज ऑफ़ वर्शिप एक्ट का रो रहे हैं रोना, यहां जानेंपुजारा और कार्तिक की टीम में वापसी, उमरान मालिक को भी मिला मौका, देखें दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड दौरे का पूरा स्क्वाडपश्चिम बंगाल में BJP को बड़ा झटका, बैरकपुर के भाजपा सांसद अर्जुन सिंह TMC में हुए शामिल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.