scriptMills stop orders and supplies after implementation of GST | और महंगे होंगे दाल- चावल, जीएसटी लागू होने के बाद मिलों ने आर्डर व आपूर्ति रोकी | Patrika News

और महंगे होंगे दाल- चावल, जीएसटी लागू होने के बाद मिलों ने आर्डर व आपूर्ति रोकी

देशभर के व्यापारिक संगठनों की वर्चुअल बैठक होगी

 

भोपाल

Published: July 18, 2022 08:47:32 pm

भोपाल. मध्यप्रदेश में दाल और चावल और महंगे हो सकते हैं. दरअसल जीएसटी लागू होने के बाद बनी परिस्थितियों मेें मिलों ने चावल और दान के आर्डर व आपूर्ति रोक दी है। सोमवार यानि 18 जुलाई से पैक्ड खाद्यान्न व अन्य खाद्य वस्तुओं पर जीएसटी लागू हो गया है। इसी के साथ ही दाल और चावल मिलों की ओर से कारोबार रोक दिया गया है। मिलों ने फिलहाल आर्डर बुक करना और आपूर्ति रोक दी है जिससे खुदरा बाजार में दिक्कत शुरु हो गई है।

apulses.png
दाल और चावल की सप्लाई रुकी

खाद्यान्न पर जीएसटी लागू होने के विरोध में 16 जुलाई को देशभर की तरह मध्यप्रदेश के खाद्यान्न कारोबारियों ने भी व्यापार बंद रखकर एक दिन की हड़ताल की थी। दाल, चावल और आटा मिलों के मालिक और थोक कारोबारी इसके विरोध की नई रणनीति बना रहे हैं। इस बीच खाद्यान्न व अन्य खाद्य वस्तुओं के दाम ज्यादा हो गए हैं. इधर अब कानून को लेकर संशय भी बन गया है।

मप्र अनाज दलहन व्यापारी एसोसिएशन और आल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के पदाधिकारियों के अनुसार एक दिन की सांकेतिक हड़ताल के बाद अब व्यापारी विरोध का दूसरा चरण शुरू करने की रणनीति बना रहे हैं। भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने अब 19-20 जुलाई को देशभर के व्यापारिक संगठनों के अध्यक्षों की वर्चुअल बैठक बुलाई है। इस बैठक में तय होगा कि आगे आंदोलन किस तरह जारी रखा जाएगा।

आल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के पदाधिकारियों के अनुसार जीएसटी लागू होने के बाद सोमवार से ही दाल और चावल मिलों की ओर से आर्डर बंद कर दिए गए हैं। दरअसल सरकार ने यह तो कहा है कि 25 किलो व ज्यादा वजन के पैक पर जीएसटी नहीं लगेगा लेकिन ई-वे बिल तो लागू होगा ही। जीएसटी के प्रावधान और ई-वे बिल की औपचारिकता भी कारोबारियों के लिए परेशानी बनी हुई है। ऐसे में कारोबारियों के सामने फिलहाल व्यापार रोकने के अलावा अन्य कोई विकल्प नहीं है। एक-दो दिनों में बैठक के बाद राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन खड़ा किए जाने की तैयारी भी की जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

BJP का महागठबंधन पर बड़ा हमला, सांबित पात्रा बोले- नीतीश-तेजस्वी के साथ आते ही बिहार में जंगलराज शुरूबिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पारडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामउत्तर प्रदेश में बैन होगी 'लाल सिंह चड्ढा'? हिन्दू संगठन ने विरोध प्रदर्शन कर CM से की प्रतिबंध लगाने की मांगJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.