दुआ के लिए हाथ उठाते ही हुई झमाझम बारिश, चमत्कार से कम नहीं था नज़ारा

दुआ के लिए हाथ उठाते ही हुई झमाझम बारिश, चमत्कार से कम नहीं था नज़ारा

Faiz Mubarak | Publish: Jul, 20 2019 05:33:51 PM (IST) | Updated: Jul, 20 2019 06:15:05 PM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

बारिश के लिए पढ़ी जाने वाली इस खास नमाज़ के पूरी होते ही गरज चमक के साथ झमाझम बारिश का दौर शुरु हो गया। नमाज़ खत्म होने के करीब आधे घंटे बाद ही जिस मैदान में ये खास नमाज़ अदा की गई थी, वहां तेज़ बारिश के कारण जल भराव हो गया था, जिसमें शहर के बच्चे अठकलियां करते नज़र आए।

भोपालः बारिश से परेशान राजधानीवासियों ने शुक्रवार को खुली आंखों से चमत्कार होते देखा। दोपहर को नमाज-ए-जुमा से फारिग होकर लोगों ने पुराने शहर की सेंट्रल लाइब्रेरी मेदान की तरफ कदम बढ़ाए। वजह थी, तेज धूप और गर्मी से राहत मिल जाए और खैर की बारिश हो जाए। दोपहर 3 बजे का वक्त तय किया गया। शहर में अच्छी बारिश के लिए काज़ी ए शहर मोलवी मुश्ताक अली नदवी ने शहर के बाशिंदों से सेंट्रल लाइब्रेरी मैदान पहुंचने की अपील की, मौका था, रहमत की बारिश मांगने के लिए अल्लाह के सामने नमाज़ ए इस्तिस्खा का। ये खास नमाज क़ाज़ी ए शहर मोलवी मुश्ताख साहब ने पढ़ाई, जिसमें हज़ारों की संख्या में लोग शामिल हुए। हैरानी की बात ये है कि, बारिश के लिए पढ़ी जाने वाली इस खास नमाज़ के पूरी होते ही गरज चमक के साथ झमाझम बारिश का दौर शुरु हो गया। नमाज़ खत्म होने के करीब आधे घंटे बाद ही जिस मैदान में ये खास नमाज़ अदा की गई थी, वहां तेज़ बारिश के कारण जल भराव हो गया था, जिसमें शहर के बच्चे अठकलियां करते नज़र आए।

namaz e islisqa

उमस और गर्मी से मिला छुटकारा

बारिश का सीज़न होने के बावजूद पिछले 12 दिनों से शहर समेत आसपास के इलाकों में तेज़़ गर्मी और उमस का सिलसिला बना हुआ था। इसी को देखते हुए भोपाल शहर क़ाजी साहब ने लोगों से बारिश की आमद के लिए इस खास नमाज़ को पढ़ने का फैसला लिया और लोगों को इस नमाज़ के ज़रिये अल्लाह से खैर की बारिश मांगने की अपील की। हालांकि, शहर काज़ी की तरफ से तय किये गए वक्त से पहले ही लोगों का हुजूम सेंट्रल लाइब्रेरी मैदान में पहुंच गया है। एक तरफ जहां शहर काज़ी साहब ने नमाज़-ए इस्तिस्खा की नियत की वहीं, दूसरी तरफ आसमान में बादलों की चहलकदमी शुरु हो गई। हैरानी की बात ये है कि पहली रकअत पूरी होते तक बादलों ने सूरज पर फतह हासिल कर ली थी। दूसरी और आखरी रकअत खत्म होने तक हवाओं में नमी के साथ बिजली की कड़कड़ाहट शुरु हो गई थी। नमाज़ पूरी होने के बाद दुआए खास शुरु की गई। इस दुआ में अल्लाह से हाथ उठाकर रहमत की बारिश मांगी जाती है। उस नमाज़ का गवाह हर वो शख्स उस समय हैरान रह गया जब दुआ के लिए हाथ उठाते ही बारिश की बूंदे अल्लाह के सामने फैले हुए हाथों पर गिरने लगीं।

 

पढ़ें ये खास खबर- इन चीजों का सेवन तेज़ी से बढ़ाता है प्लेटलेट्स, जानिए 5 फायदे

सोशल मीडिया पर कहा जा रहा चमत्कार

बात सुन्ने या पढ़ने में भले ही फिल्मी लग रही हो, लेकिन शुक्रवार को शहर के बाशिंदों ने खुली आंखों से ये खास नज़ारा देखा चारों कई लोग इसका वीडियों भी बनाते नज़र आए जो इस समय सोशल मीडिया पर भी काफी तेज़ी से वायरल हो रहे हैं। शहर क़ाज़ी मोलवी मुश्ताख साहब ने इस नमाज़ के लिए लोगों से बुधवार को अपील की थी। शहर के बाकी उलेमाओं ने भी इसपर सहमति ज़ाहिर की थी।

namaz e islisqa

क्या होती है नमाज़ ए इस्तिस्खा, क्यों पढ़ी जाती है ये नमाज़

बारिश को नयामत कहा जाता है। इसी की वजह से हमारी ज़मीन का जलस्तर बढ़ता है, जो हमारे पीने के साथ साथ दीगर इस्तेमाल में आता है। पानी से पेड़ पौधे हैं, जिनसे हमें सांस लेने योग्य ऑक्सीजन मिलती है। इससे मालूम होता है कि, पानी के बिना इंसानी जीवन ही संभव नहीं है। इन गंभीर समस्या से निजात पाने के लिए कुरआन के मुताबिक, अल्लाह कहता है कि, तुम इस नमाज़ के ज़रिये मांगो, जरूर पूरी की जाएगी।

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned