एसी कोच में चोरी हुआ मोबाइल, उपभोक्ता फोरम ने रेलवे से दिलाया 24 हजार का हर्जाना

सुरक्षा में कमी, फोरम ने कहा- यात्री को सुविधा देने में असफल रहा रेलवे

 

भोपाल. गोवा एक्सप्रेस के सेकंड एसी कोच से एक यात्री का मोबाइल चोरी होने के मामले में जिला उपभोक्ता फोरम ने रेलवे पर 23 हजार 900 सौ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह निर्णय जिला फोरम के अध्यक्ष जस्टिस आरके भावे व सदस्य सुनील श्रीवास्तव की बेंच ने सुनाया। होशंगाबाद रोड स्थित फॉच्र्यून डिवाइन सिटी निवासी अनिल सप्रे ने जिला फोरम में याचिका पेश कर बताया कि 31 अगस्त 2018 को उन्होंने गोवा एक्सप्रेस ट्रेन में ऑनलाइन सेकेंड ऐसी टिकट बुक की थी।

यात्रा करने के दौरान उपभोक्ता की ट्रेन में नींद लग गई। इस कारण भोपाल से कोपरगांव के बीच किसी अज्ञात चोर द्वारा उनका मोबाइल फोन चुरा लिया गया। इसकी कीमत 15 हजार 900 रुपए थी। इसकी सूचना उपभोक्ता ने फौरन टीसी को दी। टीसी द्वारा चोरी की सूचना पुलिस थाना जीआरपी मनमाड़ को दी गई।

रेलवे ने किया जिम्मेदारी से इनकार
रेलवे ने फोरम के पत्र के जवाब में कहा कि रेलवे के नियम के तहत जो किराया प्राप्त करता है वह केवल यात्रा के लिए किया जाता है। उपभोक्ता जो सामान साथ ले जा रहे थे वह रेलवे की अभिरक्षा में नहीं दिया। इस कारण रेलवे किसी भी क्षतिपूर्ति के लिए जिम्मेदार नहीं है। वहीं उपभोक्ता ने कहा कि रिजर्व बोगी में अनाधिकृत व्यक्ति घुसकर मोबाइल चोरी किया है। ऐसा रेलवे द्वारा सुरक्षा में कमी के कारण हुआ। इस मामले में फोरम ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद टिप्पणी करते हुए कहा कि जब रिजर्व कोच में कोई भी अनाधिकृत व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सकता तो फोन कैसे चोरी हो सकता है। रेलवे अपने यात्रियों को सुविधा देने में असफल रहा, जिसकी वजह से रेलयात्री को परेशान होना पड़ा। अब रेलवे को हर्जाना राशि यात्री को चुकानी होगी।

विकास वर्मा Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned