एसएनसीयू में भर्ती नवजातों को मिल सकेगा मां का दूध, जेपी में बनेगा दस बेड का मदरवार्ड

मार्च तक तैयार होगा विशेष वार्ड...

भोपाल। जेपी अस्पताल के शशु गहन चिकित्सा ईकाई (एसएनसीयू) में एडमिट बच्चों के साथ अब उनकी मां भी रह सकेंगी। इसके लिए जेपी अस्पताल में 10 बिस्तरों का मदर वार्ड बनाया जा रहा है।

एम्स को छोड़कर शहर के किसी भी सरकारी अस्पताल में मां को बच्चे के साथ अस्पताल में रहने की व्यवस्था नहीं है। प्रदेश का पहला जिला अस्पताल हैं जहां यह सुविधा शुरू की जा रही है। वार्ड बनाने का काम शुरू हो गया है। मार्च में इसके तैयार होने के साथ ही भर्ती की सुविधा शुरू कर दी जाएगी।

डॉक्टरों के अनुसार अभी अति गंभीर और सामान्य सभी बच्चों को एसएनसीयू में भर्ती किया जाता है। जेपी अस्पताल में प्रदेश का पहला मदर मिल्क बैंक बनाया गया था ताकि बच्चों को मां का दूध मिल सके। . लेकिन अस्पताल में एडमिट नवजातों के साथ मां को रहने की व्यवस्था न होने की वजह से मिल्क बैंक में दूध संगृहीत नहीं हो रहा है। दूध की कमी की दूसरी वजह मिल्क कलेक्शन के लिए स्टाफ नहीं है।

माताओं को रखना होगा सफाई का ध्यान

यहां माताओं को गाऊन में सफ ाई के साथ रहना होगा। इससे बच्चों को स्तनपान में भी आसानी हो जाएगी। साथ ही माताओं के ठहरने की दिक्कत भी नहीं रहेगी। अस्‍पताल प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार स्‍थानीय जेपी अस्पताल में पुराने पीआईसीयू वार्ड की जगह मदर वार्ड बनाया जा रहा है।

निगम कर्मियों का स्वास्थ्य परीक्षण शिविर शुरू

फैमिली प्लानिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया, भोपाल शाखा ने नगर निगम कर्मियों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए शिवाजी नगर 6 नं. बस स्टॉप स्थित शाखा परिसर में चार दिवसीय शिविर सोमवार से शुरू किया। यहां करीब 150 महिला सफ ाई कर्मचारियों को योगाभ्यास कराया।

यहां अपर आयुक्त राजेश राठौड़ ने महिलाओं को अपने स्वास्थ्य परीक्षण के लिए सजग रहने के लिए प्रेरित किया। शिविर में पहले दिन करीब 350 सफ ाई कर्मियों ने स्वास्थ्य परीक्षण कराया। शिविर में 145 महिलाओं का हीमोग्लोबिन एवं 150 महिलाओं का वीडीआरएल की जांच की गई, जबकि 80 महिलाओं का दंत परीक्षण किया गया।

Show More
सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned