सरकार ने तय की फीस बढ़ोत्तरी की सीमा, अब नहीं चलेगी प्राइवेट स्कूलों की मनमानी

स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किया गजट नोटिफिकेशन, एक साल में 15 फीसदी से ज्यादा फीस नहीं बढ़ा सकेंगे निजी स्कूल..

By: Shailendra Sharma

Updated: 12 Dec 2020, 06:22 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में शिवराज सरकार ने प्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर नकेल कसने की तैयारी कर ली है। सरकार ने प्राइवेट स्कूलों की मनमानी फीस बढ़ोत्तरी को रोकने के लिए नया नियम बनाया है जिससे कि अब निजी स्कूल हर साल मनमाने तरीके से फीस नहीं बढ़ा सकेंगे। नए नियमों के लागू होने निजी शिक्षण संस्थानों के फीस स्ट्रक्चर पर सरकार का कंट्रोल रहेगा और राज्य व कलेक्टरों की अध्यक्षता में जिला स्तरीय समिति स्कूलों की फीस तय करेगी। बता दें कि हर साल निजी स्कूलों की तरफ से मनमानी फीस बढ़ोत्तरी को लेकर बच्चों के अभिभावकों को कई तरह की दिक्कतों का सामन करना पड़ता था और कई तरह की शिकायतें भी सरकार तक पहुंचती थीं।

 

साल में 15 फीसदी से ज्यादा बढ़ोत्तरी नहीं
निजी स्कूलों की तरफ से हर साल बढ़ाई जाने वाली फीस पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने जो नए नियम बनाए हैं उनके तहत प्राइवेट स्कूल एक साल में सिर्फ 10-15 फीसदी फीस ही बढ़ा पाएंगे। 15 फीसदी से ज्यादा फीस की बढ़ोत्तरी नहीं की जा सकेगी। निजी स्कूल फीस बढ़ोत्तरी का जो प्रस्ताव बनाएंगे वो पहले जिला समिति के पास जाएंगे और फिर राज्य स्तरीय समिति के पास आएंगे। बता दें कि अभी तक निजी स्कूल एक साल में 15-25 फीसदी तक फीस बढ़ा देते थे जिससे बच्चों के अभिभावकों पर खासा आर्थिक बोझ पड़ता था। निजी स्कूलों की मनमानी फीस बढ़ोत्तरी पर लगाम लगाने और स्थाई समाधान निकालने के लिए सरकार ने दिसंबर 2017 में निजी विद्यालय फीस विधेयक 2017 बनाया था लेकिन तब कानून के साथ नियम नहीं बन पाए थे जिसके कारण निजी स्कूलों की मनमानी पर रोक नहीं लग पाई थी। अब स्कूल शिक्षा विभाग ने गजट नोटिफिकेशन जारी किया है।

 

ये हैं नियम और नए प्रावधान
- निजी स्कूल हर साल 10-15 फीसदी से ज्यादा फीस बढ़ोत्तरी नहीं कर सकेंगे।
- अधिक फीस वसूलने पर स्कूल प्रबंधन पर 2 लाख रुपये तक का अर्थदंड और कानूनी कार्रवाई होगी।
- दूसरी बार शिकायत सही पाए जाने पर अर्थदंड दोगुना होगा।
- फीस बढ़ाने के लिए स्कूल को अपनी आमदनी और खर्चे दिखाना होंगे।
- स्कूल किसी दुकान विशेष से पाठ्यक्रम की किताबें एवं अन्य सामग्री खरीदने के लिए दबाव नहीं बना सकते।

 

देखें वीडियो- बारिश से भीगा शहर, ठंड से कांपने लगे लोग

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned