राजधानी में सात लाख युवा आए बेटी सुरक्षा के लिए आगे, जाने कैसे..?

सात दिन में सात लाख महिला, पुरूष ने लिया बेटी की सुरक्षा का संकल्प, महिला एवं बाल विकास विभाग के सात दिवसीय 'सुरक्षित घर, सुरक्षित बाहरÓ अभियान के तहत पहल

Kuldeep Saraswat

September, 1311:28 AM

Bhopal, Madhya Pradesh, India

भोपाल। 'सुरक्षित घर, सुरक्षित बाहरÓ हम बात कर रहे हैं महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा पिछले महीने चलाए गए बेटी सुरक्षा अभियान की। अभियान के तहत बालिका अपराध रोकने के लिए सात दिन में सात लाख से ज्यादा संकल्प पत्र भरे गए हैं। संकल्प पत्र भरने वालों में 60 फीसदी से ज्यादा युवा हैं, वहीं 30 फीसदी संख्या महिलाओं की है। बच्चों ने भी इस अभियान के तहत बराबरी से भाग लिया है।

21 अगस्त से शुरू हुए 'सुरक्षित घर, सुरक्षित बाहरÓ अभियान के समाप्त होने के बाद बालिका अपराध के खिलाफ आवाज उठाने का संकल्प लेने वाले अविवाहित युवाओं से बात की गई तो सामने आया कि समाज की तस्वीर वह नहीं है जो कुछ असामाजिक तत्वों की करतूत के कारण बनती है, अधिकांश युवाओं के मन में बेटियों की सुरक्षा को लेकर वही भाव हैं, जो अपनी बहन, मां या बेटी को लेकर होते हैं। युवा खुद चाहते हैं कि घर और बाहर बहन-बेटी सुरक्षित होनी चाहिए। बेटी भी बेटों की तरह आत्म निर्भर होनी चाहिए।

Beti Bachao

दोगुनी होती है परिवार की ताकत
'सुरक्षित घर, सुरक्षित बाहरÓ अभियान के वॉलेंटियर महेन्द्र सिंह सोलंकी ने बताया कि महिला एवं बाल विकास विभाग के अभियान के बारे में जब उन्हें पता चला तो वे खुद आए आए और उन्होंने आस पड़ौस के युवाओं को संकल्प पत्र भरने के लिए प्रेरित किया। सोलंकी ने बताया कि जब तक बेटी सुरक्षित और आत्म निर्भर नहीं होगी, समाज की तरक्की नहीं हो सकती है। बेटी के आत्म निर्भर होते ही उसके पति, पिता की ताकत दोगुनी हो जाती है। घर और बाहर का माहौल अच्छा नहीं होगा तो बेटी आत्म निर्भर नहीं बन पाएगी। बेटी को आत्म निर्भर बनाने के लिए सुरक्षा की जिम्मेदारी समाज को लेनी होगी।

हम नहीं तो दूसरा क्यों?
वॉलेंटियर राकेश झा का कहना है कि बेटी की सुरक्षा को लेकर हम यदि आगे नहीं आएंगे तो दूसरा क्यों आएगा? हम उस दिन का इंतजार तो नहीं कर सकते हैं, जब कोई हमारी बहन या बेटी के साथ हरकत करेगा। हम सभी की जिम्मेदारी है कि हम बेटी को घर और बाहर सुरक्षित माहौल दें। सरकार की जिम्मेदारी अपनी जगह है, समाज और परिवार के प्रति कुछ हमारा भी तो नैतिक दायित्व है। बेटी की सुरक्षा हर व्यक्ति की जिम्मेदारी है और इस जिम्मेदारी को आगे आकर निभाना चाहिए।

कहां कितने भरे संकल्प पत्र
कोलार- 53207
फंदा- 61000
मोतिया पार्क - 70557
बैरसिया- 40000
गोविंदपुरा- 95713
बरखेड़ी- 73534
जेपी नगर- 88187
बाणगंगा- 99500

Kuldeep Saraswat
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned