सिंधिया के दौरे से गरमाई सियासत, दूसरे दिन भी मेल-मुलाकातों का दौर

jyotiraditya m scindia news- अपने समर्थकों को निगम-मंडल में ताजपोशी कराने की तैयारी...। अनलॉक के बाद सिंधिया अब एक्शन में हैं...।

By: Manish Gite

Updated: 10 Jun 2021, 05:52 PM IST

भोपाल/ग्वालियर। कोरोनाकाल में अनलॉक होते ही प्रदेश की सियासत भी गरमाने लगी है। भाजपा के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया गुरुवार को भी भाजपा नेताओं के साथ बैठकों में व्यस्त रहेंगे। वहीं वे ग्वालियर में भी कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

 

 

 

सिंधिया के दौरे से जुड़ी अन्य खबरें

भोपाल पहुंचकर सिंधिया बोले- भाजपा मेरा घर और मैं सभी से मिलने आया
कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए जितिन प्रसाद के लिए क्या बोले- ज्योतिरादित्य सिंधिया?

यहां देखें सिंधिया से जुड़ी दिनभर की हलचल

Update

महिला अफसर पर हमले की निंदा की

ग्वालियर से खबर है कि सांसद सिंधिया गुरुवार को ग्वालियर में थे। उन्होंने मुरैना वन विबाग की दबंग एसडीओ श्रद्धा पांढरे पर हुए हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा कि मैं इस बारे में मुख्यमंत्रीजी से बात करूंगा। पूरी तहकीकात होगी। सिंधिया ने कहा कि अवैध उत्खनन के खिलाफ मेरा झंडा हमेशा से बरकरार रहा है। सिंधिया ग्वालियर में मीडिया से बात कर रहे थे।

जानिए पहले दिन क्या-क्या हुआ

सिंधिया ने बुधवार को दोपहर में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा औरसगठन महामंत्री सुहास भगत के साथ लंच किया, जबकि रात को पीडब्ल्यूडी मंत्री गोपाल भार्गव के साथ डिनर किया। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात करने सीएम हाउस गए।

सिंधिया के दौरे में कई सियासी एजेंडे भी हैं। उनके लिए हारे हुए तीन समर्थक मंत्रियों का पुनर्वास कराने की मंशा भी अहम है। इमरती देवी, गिर्राज दंडोतिया व एंदल सिंह कंसाना को निगम-मंडल में मौका मिल सकता है। इमरती, गिर्राज सीधे सिंधिया से जुड़े हैं। दूसरे समर्थकों को भी सत्ता और संगठन में एडजस्ट कराना है।

 

नई समिति में सिंधिया का दबदबा, दिग्गज नेताओं की जाति बदलकर हुई बीजेपी की किरकिरी

सागर की राजनीति को भी साधा

इस दौरे में सिंधिया ने प्रदेश की राजनीति के साथ ही अपने समर्थक मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के लिए सागर की राजनीति को भी साधा। अभी सागर से तीन मंत्री हैं। गोविंद के अलावा गोपाल भार्गव और भूपेंद्र सिंह हैं। सिंधिया भूपेंद्र और गोपाल भार्गव के निवास पर जाकर मिले और सियासत पर चर्चा की। इस मुलाकात के जरिए गोपाल भार्गव की लंबे समय से चल रही नाराजगी को भी सिंधिया ने साधने की कोशिश की। शिवराज कैबिनेट के दोनों अहम मंत्रियों से मेल-मुलाकात भी बढ़ाई।

 

मध्यप्रदेश में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलें, गृहमंत्री बोले- शिवराज सिंह ही रहेंगे मुख्यमंत्री

संघ में पैठ, समिधा भी गए

सिंधिया बुधवार शाम को समिधा भी पहुंचे। यहां वरिष्ठ नेता दीपक विस्पुते से बंद कमरे में करीब एक घंटे तक चर्चा में व्यस्त रहे। इस मुलाकात को संघ में पैठ बढ़ाने के तौर पर देखा जा रहा है। सिंधिया लगातार यह रणनीति अपना रहे हैं। इससे पहले भी वे संघ से नजदीकी बढ़ाने की लाइन पर मेल-मुलाकात कर चुके हैं।

 

यह भी पढ़ेंः 400 कमरे वाले महल में रहते हैं सिंधिया, विश्व की ब्यूटीफुल वुमंस में शामिल रह चुकी हैं इनकी वाइफ

दबदबा व्यक्ति का नहीं संगठन का रहता है

सिंधिया ने अपने दौरे में मीडिया से भी बात की। उन्होंने कहा कि भाजपा में किसी व्यक्ति नहीं, बल्कि संगठन का दबदबा रहता है। किसी गुट की पैठ नहीं होती, केवल संगठन होता है। संगठन ही सेवा है। हमें उसी आधार पर आगे चलना है। जो इसे नहीं अपना पाएगा, वह ज्यादा लंबा इस सेवाभाव संगठन में नहीं चल पाएगा। भाजपा में कोई मतभेद नहीं है। यह अनुशासित पार्टी है और अनुशासन के आधार पर ही आगे चलती रहेगी। निगम-मंडल में नियुक्तियों को लेकर कहा कि हमेशा पद के साथ राजनीति नहीं जोड़ना चाहिेए। कांग्रेस का तो चेहरा ही यही है कि सही चीज पर सवाल उठाती है।

BJP
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned