अब लेटर पॉलिटिक्स: कमलनाथ के पत्र का शिवराज ने ऐसे दिया जवाब, देखें ताजा खत

मध्यप्रदेश में 28 सीटों पर 12 दिन बाद होने वाले हैं उपचुनाव...। चरम पर है बयानबाजी...।

By: Manish Gite

Published: 20 Oct 2020, 05:50 PM IST

भोपाल। मध्यप्रदेश में 'आइटम' पर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। उपचुनाव से पहले शब्दबाणों के साथ ही अब 'लेटर पॉलिटिक्स' भी शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ( cm shivraj singh chauhan ) ने सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कई आरोप लगाए थे, जिसके जवाब में कमलनाथ ने भी चौहान को जवाब दिया था। ताजा मामला मंगलवार का है, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट के जरिए सोनिया पर निशाना साधा, वहीं कमलनाथ के नाम भी पत्रलिखकर इस मामले को एक बार फिर हवा दे दी।

 

मंगलवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ( rahul gandhi ) ने भी कमलनाथ के बयान पर असहमति जताई है। इसके बाद कमलनाथ के माफी नहीं मांगने का बयान आ गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने देर नहीं करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर जमकर निशाना साधा है। कमलनाथ ( Kamal Nath ) के नाम पत्र लिखा है, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

04.png

 

राहुल ने भी बताया अशोभनीय बयान

मुख्यमंत्री चौहान ने अपने ट्वीट में कहा है कि कमलनाथ जी, आपके शीर्ष नेता राहुल गांधी ने भी आपके अशोभनीय बयान पर अपनी नाराज़गी दिखाई है और उसको गलत ठहराया है, इसके बाद भी आप अपने अतिनिंदनीय बयान पर कायम हैं। चौहान ने कहा कि आपने जिन शब्दों का इस्तेमाल एक महिला के लिए किया, वह मध्यप्रदेश की परंपरा के बिल्कुल विपरीत है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के अनेक नेता अब आपसे प्रेरणा लेकर अशिष्टता की सारी हदें पार कर रहे हैं।

 

नवरात्रि में होती है देवी की पूजा

चौहान ने अपने ट्वीट में कहा है कि एक तरफ समूचा देश नवरात्रि ( navratri 2020 ) के पवित्र अवसर पर देवी माँ की पूजा कर रहा है, वहीं दूसरी तरफ आप और आपकी पार्टी के नेताओं में महिलाओं का अपमान करने की होड़-सी लग गई है।

 

सोनिया असहमत तो कार्रवाई करें

शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट में कहा है कि कांग्रेस की शीर्ष नेता सोनिया गांधी ( sonia gandhi ) से भी मैं कहना चाहता हूँ, आपके नेता के बयान से मध्यप्रदेश की माताएँ और बहनें आहत हैं। अगर आप कमलनाथ जी के बयान से असहमत हैं, तो उन पर तुरंत कार्रवाई करें। यदि कोई कार्रवाई नहीं की गई, तो उसे आपकी सहमति मान लिया जाएगा।

05.png

 

कमलनाथ को लिखी चिट्ठी

भाजपा की डबरा से प्रत्याशी इमरती देवी के लिए आइटम शब्द कहकर संबोधित करने के बाद भाजपा आक्रामक है और कांग्रेस ( Congress ) बैकफुट पर है। उपचुनाव से पहले शब्द बाणों का सिलसिला चरम पर है। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के पत्र के जवाब में मंगलवार को यह पत्र लिखा है।

 

पत्र में क्या बोले शिवराज

-चौहान ने कमलनाथ को लिखा है कि इमरती देवी के संबंध में आपकी अशोभनीय टिप्पणी को लेकर अलग-अलग ढंग से सफाई दे रहे हैं। कभी आप कहते हैं कि आपकी टिप्पणी में अपमानजनक कुछ भी नहीं है और आइटम शब्द का अर्थ प्रदेश की जनता को समझाने लगते हैं।
-चौहान ने कहा कि कहीं आप अपनी टिप्पणी पर खेद भी व्यक्त कर रहे हैं। मेरे विचार से आपको ईमानदारी से एक गरीब और अनुसूचित जाति की बेटी पर की गई अपमानजक टिप्पणी के लिए माफी मांगनी चाहिए।
-चौहान ने कहा कि आपके 15 माह के शासन महिलाओं और बेटियों पर जो अत्याचार हुए हैं, उसके आंकड़े सभी के सामने हैं।

 

नारियल का दिया जवाब

चौहान ने अपने पत्र में लिखा है कि आप बार-बार नारियल की बात उठा रहे हैं। मुझे खुशी है कि प्रदेश के विकास के लिए अपने ईमानदार प्रयासों के कारण मुझे लगातार बड़ी-बड़ी विकास योजनाओं और परियोजनाओं प्रारंभ करने का अवसर प्राप्त हुआ है। इनका शुभारंभ करने का मौका मुझे बार-बार मिलता रहा है। मुझे खेद है कि आप विकास के बारे में सोच नहीं पाए।

 

प्यार करना सीखिए

चौहान ने कहा कि आप मध्यप्रदेश और मध्यप्रदेश के लोगों को प्यार करना सीखिए, भले ही आप मध्यप्रदेश के नहीं है, उसके बावजूद भी वे आपको स्वीकार करने की कोशिश कर रहे हैं।

 

03.png

कमलनाथ ने क्या लिखा था

इससे एक दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी एक पत्र शिवराज सिंह चौहान को लिखा था। जिसमें उन्होंने कहा था कि आपकी ओर से सोनिया गांधी को पत्र लिखा गया। जिस तरह आप अपनी चुनावी सभा में रोज झूठ परोसते हैं, झूठी घोषणाएं करते हैं, झूठे नारियल फोड़ते हैं, इतना झूठ बोलते हैं कि झूठ भी शर्मा जाता है। उसी प्रकार इस पत्र में भी आपने झूठ को बढ़चढ़कर रेखांकित किया है।

 

मैंने कोई असम्मानजक टिप्पणी नहीं की

कमलनाथ ने अपने पत्र में लिखा है कि डबरा की सभा में अपने संबोधन में मैंने कोई असम्मानजनक टिप्पणी नहीं की, फिर भी आपने झूठ परोस दिया एवं जिस शब्द की ओर आप इंगित कर रहे हैं, उस शब्द के मायने हैं, कई तरह की व्याख्याएं हैं, लेकिन सोच में खोट अनुसार आप और आपकी पार्टी अपनी मनमर्जी की व्याख्या कर झूठ परोसने लगे और जनता को गुमराह करने का काम कर रहे हैं।

 

दरिंदगी की घटनाएं में नंबर-1

कमलनाथ ने कहा कि मुझे आश्चर्य है कि सोनियाजी को महिलाओं के सम्मान व सुरक्षा को लेकर पत्र लिख रहे हैं, जिनकी 15 साल की सरकार में बहन-बेटियों से दुष्कर्म, महिलाओं पर अत्याचार और महिला अपराधों में मध्यप्रदेश देश में शीर्ष पर रहा। इसके बावजूद भी इतने सालों तक आप मौन रहे।

 

कमलनाथ के पत्र में यह भी

  • -कमलनाथ ने अपने पत्र में लिखा है कि यदि आप सचमुच में महिलाओं और दलित सम्मान को लेकर द्रवित होते तो हाथरस की घटना, स्वामी चिन्मयानंद की घटना, भाजपा विधायक कुलदीप सेंगर मामले, रीवा जेल में महिला बंदी के साथ हुई घटना पर भी मौन और उपवास जरूर रखते। सोनिया गांधी को लिखा गया आपका पत्र 'वोट पाने की राजनीति' है।
  • कमलनाथ ने लिखा कि आपकी पार्टी के केंद्रीय मंत्री कांग्रेस में शामिल हुए नए सदस्यों, जिसमें महिला सदस्य भी शामिल हैं, उन्हें रिजेक्टेड माल बता रहे थे।
  • आपकी सरकार के मंत्री बिसाहूलाल ने कांगरेस प्रत्याशी विश्वनाथ सिंह की पत्नी को ऐसे शब्दों से संबोधित किया, जिसे भारतीय संस्कृति में बोलना तो दूर सुनना भी उचित नहीं माना जाता है।
Kamal Nath Congress
Show More
Manish Gite
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned