अबू सलेम की लव स्टोरी लिखने वाले मुस्लिम अधिकारी को 'MY NAME IS KHAN' से लग रहा है डर, बदलना चाहते हैं अब नाम

मध्यप्रदेश के मुस्लिम अधिकारी नियाज खान बदलना चाहते हैं अपना नाम, मॉब लिंचिंग की घटनाओं से डरे

By: Muneshwar Kumar

Updated: 07 Jul 2019, 02:27 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश ( madhya pradesh ) में राज्य प्रशासनिक सेवा के एक वरिष्ठ मुस्लिम अधिकारी ( muslim officer ) नियाज खान अपना नाम बदलना चाहते हैं। क्योंकि उन्हें ' my name is khan ' से डर लग रहा है। खुद को सुरक्षित रखने के लिए खान ये फैसला कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने अपने समुदाय के बॉलीवुड कलाकारों ( bollywood muslim stars ) को भी नसीहत दी है कि वो अपना नया नाम ढूंढ लें।

 

अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम की लव स्टोरी लिखने वाले नियाज खान ने शनिवार को दो ट्वीट किए थे। मध्यप्रदेश सरकार में उप सचिव नियाज खान अपना नाम बदलना चाहते हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मैं अपनी पहचान छिपाना चाहता हूं, क्योंकि मुझे लगता है कि नया नाम मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं से बचा सकता है।

इसे भी पढ़ें: मुस्लिम पहचान छिपाने प्रशासनिक अधिकारी नियाज खान बदलना चाहते हैं अपना नाम

 

मॉब लिंचिंग की घटनाओं से आहत
खान ने अपनी नई किताब 'टेल ऑफ ए नॉकटरनल ' में अल्पसंख्यकों के खिलाफ होने वाली मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं का जिक्र किया है। नियाज ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा है कि नया नाम मुझे हिंसक भीड़ से बचाएगा। मैं कुर्ता, टोपी नहीं पहनता और दाढ़ी नहीं रखता हूं तो मैं हिंसक भीड़ से नकली नाम के सहारे बच सकता हूं। मेरा भाई पारंपरिक कपड़े पहने हुए हैं और उसकी दाढ़ी है तो कोई भी संस्थान बचाने में सक्षम नहीं है।

इसे भी पढ़ें: शबाना आजमी ने कहा- सरकार की आलोचना करते हैं तो हमें देश-विरोधी कहा जाता है पर डरना नहीं ये देश हमारा है

 

मुस्लिम अभिनेताओं को दी सलाह
राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी नियाज खान ने मुस्लिम अभिनेताओं को सलाह दी है कि अपनी फिल्में बचाने के लिए वे भी नया नाम ढूंढ लें। टॉप स्टार्स की फिल्में भी फ्लॉप होने लगी हैं, उन्हें इसका मतलब समझना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: दारोगा की रोमांटिक बातें सुनने लायक नहीं कि हम आपको सुनाएं, SP ने सुनते ही कर दिया सस्पेंड

 

अबू सलेम के साथ जेल में रहने की जाहिर की थी इच्छा
अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम पर किताब लिखने वाले नियाज खान हमेशा चर्चा में रहते हैं। पिछले दिनों उन्होंने अपने सीनियर अफसरों पर बदसलूकी का आरोप लगाया था। अबू सलेम पर किताब लिखते वक्त नियाज खान ने सलेम के साथ जेल में भी रहने की इच्छा जताई थी। हालांकि नियाज को इसके लिए इजाजत नहीं मिली थी।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned