अगर आप रोज खाते हैं पास्ता और ब्रेड तो जरूर पढ़ें ये खबर

अगर आप रोज खाते हैं पास्ता और ब्रेड तो जरूर पढ़ें ये खबर

Astha Awasthi | Publish: Dec, 08 2017 11:57:08 AM (IST) Bhopal, Madhya Pradesh, India

खाने में जरूर शामिल करें फाइबर
प्रोसेस्ड या जंक फूड खाने से भी फाइबर की कमी हो जाती है...

भोपाल। फाइबर एक अपचनीय कार्बोहाइड्रेट है जो आपके शरीर को ठीक से काम करने में मदद करता है। यदि फाइबर की आवश्यक मात्रा शरीर को नहीं मिल पा रही है तो, कई लक्षणों के माध्यम से शरीर इसके संकेत देने लगता है। इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिसिन के अनुसार फाइबर की आवश्यकता उम्र और ***** के हिसाब से भिन्न-भिन्न होती है। जैसे 1-3 साल के बच्चे को 19 ग्राम फाइबर की प्रतिदिन आवश्यकता होती है। 19-50 साल की उम्र में 25 ग्राम फाइबर महिलाओं को और 38 ग्राम फाइबर पुरुषों को रोजाना चाहिए होता है और 51-70 साल की उम्र में 21 ग्राम फाइबर की आवश्यकता महिलाओं को और 30 ग्राम फाइबर पुरुषों को रोजाना चाहिए होता है।


बहुत आसान है पूर्ति

फाइबर को भोजन में शामिल करना कोई मुश्किल काम नहीं है क्योंकि यह कई प्रकार की सब्जियों, अनाजों और फलों में पाया जाता है। ज्यादा मात्रा में प्रोटीन और कम मात्रा में कार्बोहाइड्रेट लेने से शरीर में फाइबर कम हो जाता है। प्रोसेस्ड या जंकफूड खाने की वजह से भी फाइबर कम हो जाता है जैसे कि पास्ता, ब्रेड व स्नैक्स आदि।


कब्ज की समस्या

कब्ज, पहला संकेत है कि आप पर्याप्त मात्रा में फाइबर नहीं ले रहे हैं। अपने आहार में अधिक फाइबर शामिल करके आप समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। इसके अलावा, फाइबर आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। कब्ज बने रहने पर आपको असहजता और सिरदर्द की समस्या या गैस आदि भी होने लग सकती है।


वजन बढऩे लगता है

यदि आपको अपने आहार में अधिक फाइबर नहीं मिल रहा है, तो यह वजन बढ़ाने का काम कर सकता है। इसके अलावा, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को चबाने में ज्यादा समय लगता है जिससे आप ओवरईटिंग नहीं करते हैं। उच्च फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों में पानी की मात्रा ज्यादा और कैलोरी की मात्रा कम होती है। अगर आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ गया है तो इसका एक कारण आपके भोजन में फाइबर की कमी भी हो सकती है।


खाना खाने के कुछ समय बाद ही भूख लगना

अगर आपको शुगर की समस्या है और इसे कंट्रोल करना आपके लिए काफी मुश्किल हो रहा है तो, हो सकता है कि आपके भोजन में फाइबर की कमी हो। फाइबर, विशेष रूप से घुलनशील फाइबर, छोटी आंत से रक्त में शर्करा का अवशोषण देरी से करता है, जिससे रक्त शर्करा का स्तर बना रहता है। खाना खाने के कुछ समय के बाद ही अगर आपको भूख लगने लगती है तो आपको अपने भोजन पर ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि फाइबर की कमी भी इसका एक कारण हो सकती है। अगर खाने के फौरन बाद ही पाचन संबंधी समस्या होती है तो भी आपको चिकित्सक की सलाह से अपनी डाइट में बदलाव करना चाहिए।

करें ब्राउन राइस का यूज

भोपाल की डायटीशियन पूर्णिमा श्रीवास्तव बताती है कि अपने नियमित अनाज में उच्च फाइबर युक्त अनाज मिलाएं जैसे राजमा, विभिन्न प्रकार की दालें आदि। फलों का सेवन ज्यादा करें। नाश्ते या मिठाई के रूप में फल खाएं और फलों का रस सीमित मात्रा में पिएं। सेब और नाशपाती जैसे फलों को छिलके सहित खाएं। छिलकों में ही सबसे अधिक फाइबर होता है। सामान्य चावल के स्थान पर ब्राउन राइस का उपयोग करें। ओट्स में बीटा ग्लूकन होता है जो कि एक स्पेशल टाइप का फाइबर होता है। यह कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। यह फाइबर आपके लिए फायदेमंद होंगे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned