scriptNal samvatsar 2079 : vikram samvat 2079 and Vikrkamditya connection | जो जनता का पूरा कर्ज उतार पाए उसी के नाम पर बनता है संवत, विक्रमादित्य ऐसे आखिरी राजा | Patrika News

जो जनता का पूरा कर्ज उतार पाए उसी के नाम पर बनता है संवत, विक्रमादित्य ऐसे आखिरी राजा

vikram samvat in 2022: कालगणना का केन्द्र उज्जैनथी Vikrmaditya की राजधानी, Ujjain से चलता था देशभर में शासन, शकों के अत्याचार खत्म करने के बाद इन्हीं के नाम पर बना विक्रम संवत आज से होगा शुरू

भोपाल

Updated: April 02, 2022 01:43:31 am

उज्जैन. आज से नए संवत्सर की शुरुआत हो रही है। विक्रम संवत कलैंडर का यह 2079वां वर्ष होगा। इस संवत की शुरुआत उज्जैन के राजा विक्रमादित्य (Raja Vikrmaditya Ujjain) ने की थी। यूं दुनिया में कई तरह के कलैंडरों को मान्यता है। पर सनातन धर्म में विक्रम संवत (Vikram Samvat 2079) का खासा महत्व है। देश में सबसे लोकप्रिय कैलेंडर यही है और इसी आधार पर सभी रीति-रिवाज मनाए जाते हैं। कालगणना के केंद्र उज्जैन के राजा विक्रमादित्य ने शकों को हराने के बाद विक्रम संवत की घोषणा की। इसके बाद भी देश में कई प्रतापी और बड़े राजवंश हुए, लेकिन किसी और के नाम पर संवत शुरू नहीं हो पाया। इससे पहले युधिष्ठिर संवत, कलियुग संवत और सप्तर्षि संवत प्रचलन में थे। ऐसा नहीं है कि संवत कोई भी राजा घोषित कर सकता है। इसके लिए कई नियमों का पालन करना होता है। इसमें खास यह है कि उनके राज्य में जनता पर कर्ज न हो, राज्य धन धान्य से परिपूर्ण हो, शासन वैभवशाली हो यानी ऐसा राजा हो उसके अधीन आने वाली पूरी जनता का कर्ज उतार पाए।विक्रमादित्य की राजधानी उज्जैन को ही विश्व में प्राचीन कालगणना का केंद्र माना गया है। नवसंवत्सर से ही सृष्टि का उदय भी माना जाता है। नए वर्ष से ही प्रकृति में परिवर्तन होता है और पर्व-त्योहार शुरू हो जाते हैं। ज्योतिष के अनुसार भी नव संवत जिस दिन आरंभ होता है उस दिन के वार के अनुसार ही राजा का निर्धारण होता है। इस वर्ष विक्रम संवत में शनि राजा और गुरु मंत्री होंगे।
vikrmaditya.jpg
vikram samvat in 2022
विक्रम संवत ईस्वी से 57 साल आगे
महाराजा विक्रमादित्य शोध पीठ उज्जैन (Maharaja Vikramaditya Shodhpeeth Swaraj Sansthan) के डायरेक्टर डॉ. श्रीराम तिवारी का कहना है कि राजा विक्रमादित्य के नाम पर बना विक्रम संवत ईस्वी से 57 वर्ष आगे है। यानी जब ईस्वी सहित अन्य कालगणना नहीं थी, उससे पहले विक्रम संवत प्रचलित था। विक्रमादित्य के नवरत्नों में से एक वारहमिहीर ने अपने खगोलशास्त्र के ज्ञान का इस कलैंडर को बनाने में खास उपयोग किया। विक्रम संवत को देश-दुनिया में बसे भारतीय तो मानते ही हैं, पड़ोसी देश नेपाल में भी इसी कैलेंडर के अनुसार रीति-रिवाज मनाए जाते हैं। भारत के शासकीय कैलेंडर में भी विक्रम संवत को मान्यता दी है।
इस वर्ष राक्षस संवत्सर
पंचागकर्ता और ज्योतिषी पं. आनंदशंकर व्यास बताते हैं कि चैत्र शुक्ल का दिन सृष्टि के आरंभ और विक्रम संवत शुरू होने का दिन है। इस दिन से मौसम में परिवर्तन होता हैै। विक्रम संवत में एक वर्ष और सात दिन का सप्ताह है। इसके महीने का निर्धारण सूर्य और चंद्रमा की गति के आधार पर होता है। 12 राशियां बारह सौर मास है, जिसके आधार पर महीनों का नामकरण हुआ। विक्रम संवत 2079के दो नाम राक्षस संवत्सर और नल संवत्सर (Nal samvatsar) दिए गए। वाराणसी के विद्वानों ने राक्षस संवत्सर (Rakshak samvatsar) नाम को मान्यता दी है, इसलिए यही नाम प्रचलन में रहेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

आय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्मानाMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट36000 मंदिरों को तोड़कर उनपर बनाई गईं मस्जिदें, हम उन सभी मस्जिदों पर करेंगे क्लेम, कर्नाटक के BJP विधायक का बयानमनी लान्ड्रिंग मामले में फारूक अब्दुल्ला को ED ने भेजा समन, 31 मई को दिल्ली में होगी पूछताछUP Vidhansabha: मुख्यमंत्री Yogi बोले- ... 'हाथ जोड़कर बस्ती को लूटने वाले, सभा में सुधारों की बात करते हैं'Renault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चKuldeep Ranka : कौन हैं ये IAS, जिनसे 'ज़लालत' महसूस कर Gehlot के मंत्री ने कर डाली इस्तीफे की पेशकश!Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.