स्मार्ट सिटी के नाम भाजपा सरकार में काटे गए हजारों पेड़ : दिग्विजय सिंह

भोपाल डाक्यूमेंट के क्रियान्वयन के लिए गठित हो टास्क फोर्स

भोपाल। लोकसभा चुनाव दौरान जारी किए भोपाल डाक्यूमेंट का जिक्र करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि भोपाल डाक्यूमेंट तैयार है। इसके क्रियान्वयन के लिए टास्क फोर्स गठित होना चाहिए। तीन माह में राज्य सरकार इसका प्रतिवेदन बुलाए। भोपाल और सीहोर को राज्य सरकार ने मेट्रोपोलियन अथारिटी बनाने का निर्णय लिया है। इससे इन शहरों का विकास होगा।


दिग्विजय सिंह ने सुझाव दिया कि मुख्य मार्ग इंदौर-सीहोर, भोपाल-होशगांबाद, भोपाल-रासयेन, भोपाल-बैरसिया, भोपाल-बिलकिस गंज, सभी लिंक रोड पर सेटेलाइट टाउनशिप तैयार किए जाना चाहिए। यहां डेबलपमेंट के आधारपर अलग-अलग हव बनाए जाएं। इसमें आईटी, एज्यूकेशन हब इत्यादि प्रमुख हैं।


दिग्विजय सिंह ने भोपाल को ग्लोबल सिटी बनाने की बात भी कही। भोपाल शहर में मास्टर प्लान के अभाव में 300 से अधिक कॉलोनियों का विकास नहीं हो सका। एक अन्य सवाल पर उन्होंने कहा कि भोपाल शहर के ताल, तलैया, बड़े तालाब में नालों का गंदा पानी नहीं आना चाहिए। भोपाल गैस त्रासदी वाले शहर के रूप में नहीं बल्कि बेहतर सूबसूरत सिटी के रूप में पहचाना जाना चाहिए। इसको ध्यान में रखकर शहर का विकास हो। हरियाली का भी ध्यान रखा जाए।

दीपेश अवस्थी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned