पुलिस भर्ती में 15% आरक्षण की मांग को लेकर सतना से आए एनसीसी कैडेट्स,पुलिस और एनसीसी अधिकारियों को नहीं लगी भनक

पुलिस भर्ती में 15% आरक्षण की मांग को लेकर सतना से आए एनसीसी कैडेट्स,पुलिस और एनसीसी अधिकारियों को नहीं लगी भनक

Deepesh Tiwari | Updated: 23 Jul 2019, 08:31:13 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

200 से ज्यादा कैडेट्स पैदल मार्च करते हुए पहुंच गए गृह मंत्री के बंगले तक, मंत्री को सौंपा ज्ञापन...

भोपाल। पुलिस भर्ती में रिजर्वेशन को लेकर सतना, रीवा और सीधी के 200 से ज्यादा एनसीसी कैडेट्स ट्रेन से सोमवार सुबह भोपाल आ गए। कैडेट्स वर्दी में मार्च-पास्ट करते हुए 74 बंगले जैसे सुरक्षित क्षेत्र की सड़कों से गुजरते हुए गृह मंत्री के बंगले तक पहुंच गए।

खास बात ये है इसकी जानकारी खुद पुलिस को भी नहीं थी, वहीं जब ये सभी बंगले के बाहर बैनर लगाकर बैठे तब कहीं जाकर पुलिस को इसकी जानकारी मिली।

पुलिस भर्ती में आरक्षण की मांग को लेकर कैडेट्स ने गृह मंत्री बाला बच्चन को ज्ञापन सौंपा और इसके बाद वापस लौटने लगे तब एनसीसी के उच्च अधिकारी हरकत में आए और सभी को एमपी सीजी के डायरेक्टोरेट ले आए। यहां सेना के अधिकारियों ने कैडेट्स को पांच घंटे धूप में बैठाकर रखा और सतना सीओ को रिपोर्ट करने को कहा।

गृहमंत्री बोले: सीएम से बात करूंगा
सीनियर अंडर ऑफिसर सोनू मिश्रा ने गृह मंत्री बाला बच्चन को बताया कि एनसीसी कैडेट्स को पुलिस भर्ती में 15 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए। इस पर गृहमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे को मुख्यमंत्री के सामने रखूंगा। संभव हुआ तो जरूर करेंगे।

पुलिस घेरकर ले गई एनसीसी कार्यालय
गृहमंत्री से मुलाकात के बाद जब कैडेट्स पैदल स्टेशन की ओर जाने लगे तो पुलिस और एनसीसी अधिकारी उनके पास पहुंच गए। कैडेट्स को घेरकर एमपीसीजी डायरेक्टोरेट ले गए। यहां कैडेट्स को मैदान में बैठा दिया। अधिकारियों ने कैडेट्स के नाम, पते, बटालियन का नाम दर्ज कर प्रत्येक की फोटो खींची। सभी से कहा गया कि जो कैडेट्स आए हैं, उनके बी और सी सर्टिफिकेट रद्द कर दिए जाएंगे।

ज्ञापन सौंपने के बाद आए थे भोपाल
कैडेट्स ने एक महीने पहले सतना कलेक्टर और कमिश्नर को ज्ञापन सौंपा था। सतना के प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया से भी मिले थे। कैडेट सोनू मिश्रा ने बताया कि हमें बताया गया कि भोपाल आकर गृहमंत्री से मिलें तो जल्द कार्रवाई होगी इसलिए सब भोपाल आ गए। एनसीसी के बच्चों को सेना भर्ती में प्राथमिकता मिलती है, पुलिस में हमारी ट्रेनिंग काफी काम आ सकती है, इसलिए हम लगातार यह मांग उठा रहे हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned