बंधु के बाद अब वन विहार पहुंचा बांधव

बांधवगढ़ राष्ट्रीय अभ्यरण में दहशत का पर्याय रहे छह वर्षीय आदमखोर बाघ को सोमवार को वन विहार शिफ्ट किया गया। प्रबंधन ने इसका नाम बांधव दिया है। इससे पह

By: praveen malviya

Published: 07 Jun 2018, 09:08 AM IST

बंधु के बाद अब वन विहार पहुंचा बांधव -बांधवगढ़ के दूसरे आदमखोर बाघ को किया वन विहार किया शिफ्ट - दो साल पहले इसके भाई बंधु को भी लाया जा चुका है वन विहार - वन विहार में बाघ को दिया बांधव नाम भोपाल. बांधवगढ़ राष्ट्रीय अभ्यरण में दहशत का पर्याय रहे छह वर्षीय आदमखोर बाघ को सोमवार को वन विहार शिफ्ट किया गया।

प्रबंधन ने इसका नाम बांधव दिया है। इससे पहले बांधव के भाई बंधु को भी जून 2016 में वन विहार शिफ्ट किया जा चुका है, लेकिन बंाधव को बांधवगढ़ में ही रखा गया। अभ्यारण सोमवार को उसकी शिफ्टिंग की प्रक्रिया पूर्ण की। फिलहाल बांधव को वन विहार के क्वेरेंटाइन बाड़े में रखकर उसके सामान्य होने का इंतजार किया जा रहा है।

छह वर्षीय बाघ बांधव ने 2014 में अपने भाई बांधव के साथ बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व उमरिया में चार व्यक्तियों पर हमला कर दिया था। वन विभाग ने दोनों को रेसक्यू कर बरेहड़ा बाड़े में रखा था। वन विहार ने इसे बंधु नाम बांधवगढ़ केनाम पर दिया था, जबकि सोमवार को आए इसके भाई को भी इसी अभ्यरण के नाम पर बांधव नाम दिया गया है।

बड़वानी से आया तेंदुआ शावक वन विहार के चिकत्सकों की ओर से टेलीमेडिसिन से उपचारित तेंदुआ शावक की हालत में सुधार होने के बाद उसे वन विहार शिफ्ट कर दिया गया। टेलीमेडिसिन से पशुओं के इलाज के पहले मामले में वन विहार के चिकित्सक डॉ. अतुल गुप्ता ने पार्वों संक्रमण से ग्रसित इस तेंदुआ शावक का उपचार किया था। वन विहार पहुंचने पर तेंदुआ शावक को अभी क्वेरेंटाइन में रखा गया है।

छह वर्षीय बाघ बांधव ने २०१४ में अपने भाई बांधव के साथ बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व उमरिया में चार व्यक्तियों पर हमला कर दिया था। वन विभाग ने दोनों को रेसक्यू कर बरेहड़ा बाड़े में रखा था। वन विहार ने इसे बंधु नाम बांधवगढ़ केनाम पर दिया था, जबकि सोमवार को आए इसके भाई को भी इसी अभ्यरण के नाम पर बांधव नाम दिया गया है।

praveen malviya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned