फॉरेस्ट एरिया में चिह्नित 33 अतिक्रमण को जवाब देने के लिए एनजीटी ने दिया दो हफ्ते का समय

फॉरेस्ट एरिया नॉन फॉरेस्ट एक्टिविटी करने के मामले पर एनजीटी में सुनवाई...

By: सुनील मिश्रा

Updated: 11 Oct 2019, 07:04 AM IST

भोपाल। कलियासोत के फॉरेस्ट एरिया में नॉन फॉरेस्ट एक्टिविटी करने के मामले में गुरुवार को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) की सेंट्रल जोन बेंच ने सतीश नायक की याचिका पर सुनवाई करते हुए बेंच ने सभी 33 प्रतिवादियों को जवाब पेश करने के लिए दो हफ्ते का समय दिया है।

सुनवाई के दौरान दो प्रतिवादियों के वकील ने बेंच के समक्ष उनका नाम प्रतिवादी सूची से हटाने को कहा लेकिन बेंच ने इससे इंकार करते हुए तय समय में जवाब पेश करने के निर्देश दिए हैं।

मामले की अगली सुनवाई 19 नवम्बर को होगी। बता दें, इससे पहले बेंच ने संस्कार वैली स्कूल और जागरण लेक सिटी यूनिवर्सिटी को नोटिस जारी कर इस मामले में प्रतिवादी बनाने को कहा था।

पिछली सुनवाई में ज्यूडीशियल मेंबर रघुवेन्द्र एस राठौर और एक्सपर्ट मेंबर डॉ. सत्यवान सिंह ग्रब्याल की बेंच ने याचिकाकर्ता के वकील धरमवीर शर्मा को इस दायरे में आने वाले अन्य संस्थान, रेस्त्रां, होटल, फार्म हाउस की लिस्ट तैयार कर एनजीटी में पेश करने को कहा है जिसके बाद वकील ने 33 निर्माणों को सूची सौंपी थी।

रेत भंडारण करने वालों को पीसीबी से अनुमति लेने के लिए तीन दिन का समय भोपाल। खनिज साधन विभाग के निर्देशानुसार रेत भंडारण में भी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से सीटीओ प्राप्त करना आवश्यक किया गया है।

जिला खनिज अधिकारी के अनुसार रेत भंडारण लायसेंस धारकों को सूचित किया गया है कि जिनके द्वारा सीटीओ प्राप्त नहीं किए गए हैं वे तीन दिवस के भीतर एमपीपीसीबी से सीटीओ प्राप्त कर जिला खनिज कार्यालय को प्रस्तुत करे। ऐसा नहीं करने पर उनके विरूद्ध नियमानुसार एक पक्षीय कार्यवाही की जाएगी।

सुनील मिश्रा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned