मुस्लिम पहचान छिपाने प्रशासनिक अधिकारी नियाज खान बदलना चाहते हैं अपना नाम

मुस्लिम पहचान छिपाने प्रशासनिक अधिकारी नियाज खान बदलना चाहते हैं अपना नाम

- ट्विटर पर जाहिर की मंशा

 

By: Arun Tiwari

Published: 07 Jul 2019, 08:56 AM IST

भोपाल : अंडर वल्र्ड डॉन अबू सलेम की प्रेमकथा लिखने के मामले में मशहूर हुए राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी नियाज खान अपना नाम बदलना चाहते हैं। वे अपनी नई किताब के लिए छह माह से अपना नया नाम तलाश रहे हैं। उन्होंने एक बार फिर ट्विटर के जरिए अपनी ये मंशा जाहिर की है।

 

लोक निर्माण और परिवहन विभाग के उपसचिव नियाज खान अपनी मुस्लिम पहचान छिपाना चाहते हैं क्योंकि उनको लगता है कि नया नाम उनको हिंसक भीड़ से बचाने में कामयाब होगा। नियाज खान ने एक के बाद एक पांच ट्वीट कर अपनी इच्छा जाहिर की है।

 

नियाज खान ने लिखा है कि मैं नई किताब के लिए पिछले छह माह से अपनी मुस्लिम पहचान छिपाने नया नाम तलाश रहा हूं। ये नाम मुझे नफरत की तलवार से बचाएगा। नियाज ने अगले ट्वीट में लिखा कि नया नाम मुझे हिंसक भीड़ से बचाएगा,यदि मेरा कोई टोपी,कोई कुर्ता या दाढ़ी नहीं है तो मैं भीड़ में से नकली नाम के सहारे आसानी से निकल सकता हूं। यदि मेरा भाई पारंपरिक कपड़े पहने हुए है और उसकी दाढ़ी है तो ये खतरनाक स्थिति है।

 

कोई भी संस्थान हमको बचाने में सक्षम नहीं है इसलिए नाम को स्विच करना ही बेहतर है। उन्होंने बॉलीवुड के मुस्लिम अभिनेताओं को सलाह देते हुए लिखा है कि अपनी फिल्में बचाने के लिए वे भी नया नाम ढूंढ लें। टॉप स्टार्स की फिल्में भी फ्लॉप होने लगी हैं,उन्हें इसका मतलब समझना चाहिए। मेरे लोगों के डर को भी इस उपन्यास में जगह मिली है।



पहले भी सुर्खियों में रहे हैं नियाज :

इससे पहले नियाज खान अपने वरिष्ठ अधिकारी के दुव्र्यवहार को लेकर पोस्ट कर चुके हैं। उन्होंने लिखा था कि खान सरनेम के कारण उनके साथ ये व्यवहार होता है। 1 साल की नौकरी में उनके १९ बार ट्रांसफर हुए हैं। नियाज अबू सलेम और मोनिका बेदी की प्रेम कहानी पर लिखे उपन्यास लव स्टोरी के दफन राज के कारण भी चर्चा में आए। उन्होंने अबू सलेम के साथ जेल में रहने की अनुमति मांगी थी।उन्होंने तीन तलाक पर भी उपन्यास लिखा है। नियाज खान अब तक पांच किताबें लिख चुके हैं।

Arun Tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned