स्वसहायता समूहों के नहीं खुले खाते, केंद्र ने दिया अल्टीमेटम

डे-एनआरएलम योजना का रिव्यू...

भोपाल। मध्यप्रदेश दीनदयाल अंत्योदय योजना-नेशनल रूरर लाइवलीहुड मिशन (डे-एनआएलएम) के तहत स्वसहायता समूहों के खाते नहीं खुलने पर केंद्र सरकार ने नाराजगी जताई है।

पिछले दिनों पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की परफारमेंस एंड रिव्यू कमेटी की बैठक में केंद्र सरकार ने डे-एनआरएलएम की समीक्षा करते हुए स्वसहायता समूहों के तत्काल खाते खोलने को लेकर मध्यप्रदेश सहित कुछ राज्यों को अल्टीमेटम दे दिया है।

बैठक में बताया गया कि डे-एनआरएलम द्वारा 75 लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं, जिसमें से अभी भी देशभर में 38 लक्ष्यों को जनभागीदारी के सहयोग से हांसिल करना है। बैठक में बताया गया कि मध्यप्रदेश, कर्नाटक, असाम, और तमिलनाडु में आजीविका मिशन द्वारा बनाए गए स्वसहायता समूहोंं में आर्थिक साक्षरता की अत्यंत कमी है।

न तो इन राज्यों में समूहों के संतोषप्रद खाते खुले हैं और ना ही ऑडिट का कार्य किया गया है। बैठक में तय किया गया कि मार्च 2020 से पहले सभी स्वसहायता समूहों के खाते खोलने के साथ ही क्लस्टर लेवल फेडरेशन की ऑडिट रिपोर्ट भी भेजी जाए।

बैठक में सलाह दी कि इन संस्थाओं को एकांउंट और बुककीपिंग प्रशिक्षण भी दिया जाना जरूरी है।
एनआरएलम के चिन्हित किए गए इंटेसिव ब्लॉक में डिजीटल फाइनेंस, सेल्फ हेल्पग्रुप के बैंक लिंकेज और बीमा सुविधा को भी तत्काल लागू किया किया जाए। इसके लिए हर ब्लॉक में 3 से 4 बीमा मित्र भी नियुक्त करने की सलाह केंद्र ने दी है।

Show More
Alok pandya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned