अब किसानों के खातों में सीधे पहुंचेगी बिजली सब्सिडी, नई योजना शुरु

पॉवर सेक्टर क्षेत्र में होने वाले तीन मुख्य सुधारों में से एक सुधार किसानों के खातों में सीधे बिजली सब्सिडी पहुंचाने का काम शुरु हुआ..

By: Shailendra Sharma

Published: 21 Jan 2021, 04:40 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में अब सीधे किसानों के खातों में बिजली सब्सिडी पहुंचाई जाएगी। प्रदेश के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस योजना के बारे में जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि वित्त मंत्रालय की पॉवर सेक्टर में सुधारों के जरिए कोशिश है कि किसानों को बिना किसी अड़चन के न केवल बिजली सब्सिडी की राशि मिल सके, बल्कि भ्रष्टाचार को भी रोका जा सके।

 

दिसंबर 2020 से शुरु हुई नई योजना
ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने बताया कि किसानों के खातों में बिजली बिल की सब्सिडी भेजने की नई योजना को अभी सिर्फ विदिशा जिले में शुरु किया गया है और जल्द ही पूरे प्रदेश में इसे लागू किया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि दिसंबर 2020 से विदिशा जिले में किसानों को बिजली के तहत मिलने वाली सब्सिडी सीधे बैंक खाते (डीबीटी के जरिए) देनी शुरू हो गई है। ऊर्जा मंत्री ने बताया कि प्रदेश को अपने सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) के 0.15 फीसदी के बराबर अतिरिक्त वित्तीय पूंजी जुटाने की पात्रता मिली है। इसके तहत व्यय विभाग ने राज्य को खुले बाजार से 1423 करोड़ रुपये कर्ज लेने की अनुमति दी है।

 

60 हजार से ज्यादा किसानों के खातों में पहुंचे करोड़ों रुपए
ऊर्जा मंत्री ने नई योजना के बारे में बताते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने कृषि उपभोक्ताओं के लिए जो डीबीटी योजना शुरु की है उसके तहत विदिशा जिले के 60 हजार से भी ज्यादा लाभार्थियों के खातों में 32 करोड़ से भी ज्यादा की सब्सिडी ट्रांसफर की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि झाबुआ और सिवनी जिले में भी जल्द ही इस योजना को शुरु किया जाएगा और सबकुछ ठीक होने पर पूरे प्रदेश में योजना को लागू किया जाएगा। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि सरकार की कोशिश है कि किसानों को बिना किसी अड़चन के बिजली सब्सिडी दिलाना और इसमें होने वाले भ्रष्टाचार को रोकने के लिए सरकार ने ये योजना शुरु की है।

 

देखें वीडियो- जनपद पंचायत अध्यक्ष ने सीईओ को पढ़ाया 'नौकरी का पाठ'

Show More
Shailendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned