अब प्राइवेट स्कूलों में आधी फीस माफ, इन बच्चों को मिलेगी राहत

प्रदेश के निजी स्कूलों में आधी फीस माफ करने का हुआ निर्णय।

By: Hitendra Sharma

Published: 04 Oct 2021, 05:17 PM IST

भोपाल. मध्यप्रदेश में अब निजी स्कूल संचालकों ने बच्चों के परिजनों को राहत देने का निर्णय लिया है। प्रदेश के निजी स्कूलों की एसोसिएशन ने फैसला किया है कि अब उन बच्चों को आधी फीस ही लेंगे जिनके परिवार के सदस्य कोरोना संक्रमण के चलते अपनी जान गवां चुके हैं। प्रदेश में सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के 10,000 से ज्यादा स्कूल हैं जहां पढ़ने वाले बच्चों को इसका फायदा होगा।

एसोसिएशन ऑफ अनएड प्राइवेट स्कूल एमपी ने बच्चों को रहात देते हुए कहा कि कोरना से प्रदेश में अब तक 10,522 लोगों की मौत हो चुकी है। जिससे इन परिवारों को बड़ी परेसानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई परिवार भारी आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। इसलिए जिन बच्चों के माता या पिता में से किसी एक की मौत हुई है उनको 2 साल तक 50 फीसदी स्कूल फीस में ही पढ़ाया जाएगा।

Must See: अब एजेंट पर डिपेंडेंसी खत्म, फोन पर ही मिलेगी सारी जानकारी

इस तरह मिलेगा फायदा
एसोसिएशन ऑफ अनएड प्राइवेट स्कूल का कहना है कि प्रदेश के किसी भी निजी स्कूल में इस रियायत का फायदा लेने के लिए एक आवेदन देना होगा। आवेदन के बाद उसका परीक्षण किया जाएगा उसके बाद बच्चों को आधी फीस में ही पढ़ाई करने का मौका मिलेगा। निजी स्कूलों की इस पहल के बाद सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के स्कूल में पढ़ रहे बच्चों की पढ़ाई बीच में नहीं रुकेगी।

Must See: ICMR Alert: प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर अलर्ट जारी

प्रदेश सरकार की योजना का लाभ
मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमण के चलते लगभग चार सैकड़ा बच्चे अनाथ हो गए। कोरोना की दूसरी लहर में अनाथ बच्चों की जिम्मेदारी प्रदेश सरकार ने उठाते योजना बनाई। इस योजना के तहत दूसरी लहर में 1 मार्च से 30 जून 2021 तक दौरान जिन बच्चों के माता या पिता की मौत हुई है उनको इस योजना में शामिल किया गया है। योजना में बच्चों के पालन का पूरा खर्चा सरकार उठा रही है। इस योजना में सरकार को 395 आवेदन मिले थे, इनमें से अभीतक 228 बच्चों को सरकारी सहायता के लिए चुना गया है।

Must See: ट्रांसफर का ऑडियो वायरल.. पूर्व मंत्री ने कहा-छिंदवाड़ा को कर देंगे बर्बाद

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned