फल खाने के बाद रोपी गुठलियां, रहवासी संघ ने बना दी नर्सरी

भोपाल। आम, जामुन और इसी तरह के फलों को खाने के बाद बची हुई गुठलियों को न फेंककर इन्हें रोपित किया गया। अपार्टमेंट में रहने वालों ने खुद की छोटी सी नर्सरी बनाई और अब इन पौधों को वितरित किया जा रहा है, ताकि अलग-अलग संगठन इनका रोपण करके शहर की हरियाली बढ़ा सके।


भोपाल। आम, जामुन और इसी तरह के फलों को खाने के बाद बची हुई गुठलियों को न फेंककर इन्हें रोपित किया गया। अपार्टमेंट में रहने वालों ने खुद की छोटी सी नर्सरी बनाई और अब इन पौधों को वितरित किया जा रहा है, ताकि अलग-अलग संगठन इनका रोपण करके शहर की हरियाली बढ़ा सके। आकृति इको सिटी में ब्लू स्काई हाई राइज अपार्टमेंट में नर्सरी बनाई गई, जिसमे रहवासियों ने आम, जामुन की गुठली कचरे में न फेंक कर उससे आम के पौधे तैयार किए। नगर निगम के वल्र्ड क्लीन अप डे के कार्यक्रम में इस रहवासी संघ ने अपनी नर्सरी से सप्तपर्णी, आम, चम्पा और गुड़हल के पौधे दिए। अध्यक्ष कृष्णमूर्ति का कहना हैंकि हम छोटे छोटे प्रयासों से अपने शहर के कचरा प्रबंधन और पर्यावरण संरक्षण के लिए हमेशा योगदान देते रहेंगे।
अन्य रहवासी संघ भी अपने परिसर में खाद बनाने के लिए आगे आएं तो बेहतर स्थिति होगी। नगर निगम के साथ मिलकर काम रहे एनजीओ इन पौधों को शहर में अलग-अलग जगह लगाकर इनकी एक साल तक देखभाग करेंगे। गौरतलब है कि पिछले साथ स्वच्छत सर्वेक्षण के साथ रहवासी संघों व अन्य को लेकर हुई शहर की अंदरूनी स्पद्र्धा में ब्लू स्काई हाईराइज अपार्टमेंट पहले स्थान पर आया था। ये गुठली नहीं फेंकते, उसे एक मटके में डालते हैं फिर उसका रोपण करके पौधों को निशुल्क बांटते हैं।

देवेंद्र शर्मा Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned