नरसिंहगढ़ के रास्ते भोपाल में घुसा एक किमी लंबा टिड्ी दल, दूसरे ने सीहोर से मारी एंट्री

- खेतों बुआई का समय चल रहा है, इस कारण नहीं हुआ ज्यादा नुकसान, सब्जी, पेड़-पौधों के पत्ते ही खाए
- बगली, मक्सी, रापडिय़ा गांव में मंूग की फसल और धान का रोपा बचाने जलाई आग, ट्रैक्टर के हॉर्न बजाए


भोपाल. राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा के बाद अब टि½ी दल का रुख मप्र की ओर है। शनिवार रात तीन बजे नरसिंहगढ़ के धूतखेड़ी गांव से बैरसिया के हिरनखेड़ी, पिपरिया, रोडिया गांव सहित कई अन्य गांवों से ट्टिडी के एक किमी लंबे दल ने एंट्री मारी। रात में ही गांव वालों ने जगार कर थाली, बरतन, शंख, ढोल, डीजे बजाकर उनको भगाया। इसी बीच एग्रीकल्चर विभाग की टीमों ने कई जगह छिड़काव भी किया। सुबह छह बजे सेंट्रल दल ने ड्रोन की मदद से छिड़काव शुरू किया। ये दल रविवार सुबह 11 बजे तक जिले से बाहर चला गया। इन्हीं में से अलग हुआ एक और टिड्यिों के दल ने सीहोर की तरफ से फिर एंट्री मारी। इस दल ने कोलार, शाहपुरा, बावडिय़ाकला, होशंगाबाद रोड, बंजारी, परवलिया, नलखेड़ा, तरावली, भैंसोदा, रमपुरा, गरैठिया, मंगलगढ़, सैमरा नवीन आदि अन्य गांव में घुसा। जिला पंचायत सदस्य वार्ड क्रमांक आठ आरती राजू मीना ने बताया कि टिड्डियों के दल से कई गांव में खेतों में लगी सब्जी को थोड़ा बहुत नुकसान पहुंचाया है। वे लोग ध्वनि कर टिड्डियों को भगाते रहे। पूर्व जिला पंचायत सदस्य विष्णु विश्वकर्मा ने बताया कि नगर निगम सीमा में बगली, मक्सी, रापडिय़ा गांव में मंूग की फसल और धान का रोपा लगा होने के कारण यहां लोगों ने धुआं और ट्रैक्टर के हॉर्न बजाकर टिड्डी को भगाया।
शाम पांच बजे एक दल भोजपुर की तरफ से बगली, कटारा होता हुआ, बागसेवनियां में एंट्री कर गया। हवा के साथ ये दल मुगालिया कोट होता हुआ नरसिंहगढ़ की तरफ चला गया। होशंगाबाद रोड से टूटे एक दल ने फंदा ब्लॉक के कनेरा ग्राम में एंट्री मारी ये दल सीेहोर की तरफ चला गया। ऐसे ही कई और दल देर शाम तक होशंगाबाद रोड पर मंडराते रहे। दवा के छिड़काव से काफी संख्या में ट्ड्डिी मारे भी गए हैं। रात में दल का डेरा भोपाल और आस-पास के जिलों में है। इस कारण यहां कृषि विभाग सतर्कता बरत रहा है।

कई टुकड़ों में टूटा टिड्ी दल
कृषि विभाग के एक्सपर्ट ने बताया कि टिड्डियों का दल कई टुकड़ों में टूट गया। खेत खाली होने के बाद सिर्फ जहां सब्जी ज्यादा होती है वहीं ये दल ज्यादा पहुंचा है। इस कारण कई दल अलग-अलग जिलों की तरफ रवाना हो गए हैं। नलखेड़ा मेें जहां सब्जी ज्यादा होती है वहां पर ही एक दल रात को डेरा डाले हुए है। वहां पर छिड़काव किया जा रहा है। वर्जन

शनिवार रात तीन बजे एक दल धूतखेड़ी गांव की तरफ से बैरसिया में घुसा था। वहां पांच गांव में छिड़काव किया है। खेत खाली होने के कारण ज्यादा नुकसान की सूचना अभी नहीं मिली है।
शिवनारायण सोनानियां, उप संचालक, कृषिवर्जन

टिड््ियों की समस्या को लेकर सभी अधिकारियों को अलग-अलग क्षेत्रों में दवा का छिड़काव कराने के निर्देश दिए हैं। कई जगह ट्ड्डिी मारे भी गए। फसल के नुकसान की सूचना अभी नहीं है।
तरुण पिथोड़े, कलेक्टर

प्रवेंद्र तोमर Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned