scriptOnline facilities gasp in times of need, software overloading | जरूरत के समय हांफ जाती हैं ऑनलाइन सुविधाएं, ओवरलोड हो रहे सॉफ्टवेयर | Patrika News

जरूरत के समय हांफ जाती हैं ऑनलाइन सुविधाएं, ओवरलोड हो रहे सॉफ्टवेयर

- पांच छह साल पहले शुरू हुए सॉफ्टवेयर अब मांग रहे अपडेशन, लगभग सभी काम हुए ऑनलाइन, कलेक्टर कार्यालय में 95 फीसदी काम ऑनलाइन, रजिस्ट्री, राशन तक का वितरण सॉफ्टवेयर पर निर्भर

भोपाल

Published: February 20, 2022 09:45:29 pm

भोपाल. .सिस्टम को पारदर्शी और जनता को बेहतर सुविधा देने के लिए ज्यादातर सेवाएं ऑनलाइन की गईं हैं। कलेक्टोरेट से संबंधित 95 फीसदी सेवाएं ऑनलाइन हो चुकी हैं। बची हुई ऑनलाइन की जा रही हैं। सेवाओं को बढ़ाने के साथ पांच-छह साल पुराने सिस्टम, सॉफ्टवेयर को अब अपडेट करने की जरूरत है। मार्च महीना नजदीक आते ही जब काम बढ़ता है तो सॉफ्टवेयर हांफने लगते हैं। सरकार ने सभी सुविधाओं को ऑनलाइन तो कर दिया, लेकिन सिस्टम के अपडेशन की ओर ध्यान नहीे दिया। पिछले दो साल कोरोना के चलते सॉफ्टवेयर पर इतना लोड नहीं था, लेकिन स्थितियां सामान्य होते ही फिर से इन पर भार आने लगा है। मार्च महीना नजदीक आ रहा है, अगर जल्द ही आरसीएमएस, सम्पदा और एईपीडीएस जैसे सॉफ्टवेयरों को अपडेट नहीं किया तो आम जनता के लिए पहले की तरह परेशानी खड़ी हो सकती है।

जरूरत के समय हांफ जाती हैं ऑनलाइन सुविधाएं, ओवरलोड हो रहे सॉफ्टवेयर
पांच छह साल पहले शुरू हुए सॉफ्टवेयर अब मांग रहे अपडेशन, लगभग सभी काम हुए ऑनलाइन, कलेक्टर कार्यालय में 95 फीसदी काम ऑनलाइन, रजिस्ट्री, राशन तक का वितरण सॉफ्टवेयर पर निर्भर

- आरसीएमएस (रेवेन्यू केस मैनेजमेंट सिस्टम )1 अप्रेल 2016 को इस सॉफ्टवेयर को भोपाल सहित मप्र के पांच जिलों में शुरू किया था। इस पर लगभग प्रदेश की 1500 कोर्ट, भोपाल की 32 राजस्व कोर्ट। लोकसेवा गारंटी केंद्र, एमपी ऑनलाइन, सीएससी के तहत राजस्व केस, नामांतरण, सीमांकन, बंटान, धारणाधिकार, भू आवंटन, ईडब्ल्यूएस व अन्य राजस्व सेवाओं के आवेदन जो यहां होते हैं। ये सभी आरसीएमएस सॉफ्टवेयर पर संचालित होते हैं। पिछले पांच साल में काम काफी बढ़ गया है, ऐसे में ये सॉफ्टवेयर भी अब अपडेशन मांग रहा है। पिछले 20 दिन से ये सॉफ्वेयर परेशान कर रहा है।

- रजिस्ट्री (सम्पदा पर संचालित होती है, स्वान कनेक्टिविटी से चलता है) ई रजिस्ट्री के लिए वेब आधारित सॉफ्टवेयर है। ये स्वान कनेक्टिविटी से संचालित होता है। सम्पदा सॉफ्टवेयर को समय के साथ अपडेट किया जा रहा है। इसका सम्पदा टू अपडेट वर्शन आ रहा है। इसमें पहले से काफी फास्ट फीचर्स दिए गए हैं। रजिस्ट्री भी कम समय में होगी। इसमें ज्यादा डाटा स्टोर करने की जगह रहेगी। रजिस्ट्री में अभी जो समस्याएं आ रही हैं। वह आने वाले समय में खत्म हो जाएंगी। ऐसा दावा पंजीयन अधिकारियों का है। इसमें हाल में क्रेडिट लिमिट जनरेट नहीं होने की समस्या आई थी। कुछ दिन पूर्व सर्वर भी स्लो हुआ था।

- एईपीडीएस (राशन वितरण करने का सॉफ्टवेयर, पीओएस ) राशन दुकानों पर पीओएस मशीनों को संचालित करने वाला सॉफ्टवेयर एईपीडीएस है। ये हैदराबाद से संचालित होता है। पंद्रह दिन पहले इस सॉफ्टवेयर में समस्या आने से राशन वितरण से लेकर आधार अपडेशन तक अटक गया था। राशन के लिए पात्र सदस्यों की संख्या घटती बढ़ती रहती है, आधार अपडेशन का काम लगातार होता रहता है। भोपाल जिले में ही 3 लाख परिवारों के 14 लाख के लगभग सदस्य हैं। इस कारण ये सॉफ्टवेयर भी ओवरलोड होता रहता है। बीस दिन पूर्व इस सॉफ्टवेयर में समस्या आई थी। इसके बाद से ये सही चल रहा है।

वर्जन
राजस्व से जुड़ी सुविधाएं, जुड़े केस आरसीएमएस सॉफ्टवेयर से संचालित होते हैं। पिछले कुछ समय से इसमें परेशानी आ रही है। जल्द ही ये समस्या ठीक हो जाएगी।
विकास गुप्ता, ई गवर्नेस शाखा, प्रभारी

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारतपहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातचांदी के गहने-सिक्के की भी हो सकती है हॉलमार्किंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.