शहर में ओपन थिएटर कॉन्सेप्ट हो रहा डेवलप, न्यू नॉर्मल में बदला स्वरूप

रंगकर्मियों ने टैरेस और गार्डन में अपने खर्च पर तैयार किए ओपन थिएटर स्टूडियो

By: hitesh sharma

Published: 19 Sep 2020, 08:08 PM IST

भोपाल। कोरोना महामारी को रोकने के लिए प्रदेश में मार्च में सभी सांस्कृतिक और रंगमंचीय गतिविधियों को बंद कर दिया गया था। तभी से शहर के सारे ऑडिटोरियम बंद हैं। शहर के कलाकार पूर्व में किए गए नाटकों व प्रस्तुतियों की वीडियो रिकॉर्डिंग को ऑनलाइन दिखाकर समारोह आयोजित कर रहे हैं। इधर, अनलॉक-4 में सरकार ने एसओपी जारी कर सिर्फ ओपन थिएटर खोलने की अनुमति दी है। संक्रमण की स्थिति देखते हुए शहर में लंबे समय तक ऑडिटोरियम में पहले की तरह भव्य नाटक या अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों का संचालन मुमकिन नहीं है।

इसी को ध्यान में रखते हुए अब शहर में थियेटर स्टूडियो का कॉन्सेप्ट डेवलप हो रहा है। कुछ रंगकर्मियों ने इनशिएटिव लेते हुए अपने खर्च पर ओपन थिएटर तैयार किए हैं। इसे टैरिस थिएटर स्टूडियो भी कहा जा सकता है। यहां थिएटर की तर्ज पर लाइटिंग, साउंड से लेकर दर्शकों को बैठने की व्यवस्था भी कई गई है। कुछ रंगकर्मियों ने तो यहां नाटक की रिर्हसल भी शुरू कर दी है।

सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे
बिशना ने बताया कि बैठक की ऐसी व्यवस्था की गई है कि लोगों के बीच सोशल डिस्टेंसिंग बनी रहे। इसमें लाइट एण्ड साउंड की व्यवस्था की जा रही है। रंगकर्मी देवेंद्र शर्मा, जो कि डिजाइनिंग एक्सपर्ट भी हैं, वे इसकी डिजाइनिंग पर काम कर रहे हैं। इस थिएटर स्टूडियो को शहर का कोई भी कलाकार छोटे आयोजनों के लिए बुक करा सकता है। इसके लिए बहुत कम राशि में बुकिंग हो जाएगी। इसे तैयार करने पर करीब 50 हजार का खर्च आया।


10 से 12 लोगों के ही बैठने की व्यवस्था
रंगकर्मी बिशना चौहान ने बताया कि इस टैरिस थिएटर स्टूडियो का नाम अलखनंदन थिएटर स्टूडियो होगा। यह शहर का चौथा थिएटर होगा। इसमें 10 से 12 लोगों के बैठने की व्यवस्था होगी। इस स्टूडियो में सोलो नाट्य प्रस्तुति और रंगसंगीत, गीत-संगीत के आयोजन ही हो सकेंगे।

नाटक की रिर्हसल कर रहे हैं रंगकर्मी
नए कलाकारों और दर्शकों को नाटकों से जोडऩे के लिए वरिष्ठ रंगकर्मी आशीष श्रीवास्तव ने नीलबड़ में ओपन थिएटर तैयार किया है। आशीष ने बताया हरिनगर कॉलोनी में ओपन थिएटर तैयार किया है। इस पर 40 हजार का खर्च आया। हमारी संस्था चेतना रंगसमूह ने रिहर्सल भी शुरू कर दी है। बच्चों के साथ लड्डू गोपाल, ईदगाह, बूढ़ी काकी आदि नाटकों का मंचन होगा। 100 दर्शकों की क्षमता वाले थिएटर में सोशल डिस्टेसिंग के लिए 50 दर्शकों को बैठाया जाएगा। अक्टूबर में एक नाट्य समारोह भी होगा।

तीन नाटकों की कर रहे हैं रिर्हसल
वरिष्ठ रंगकर्मी दिनेश नायर ने बताया कि मैं इंद्रपुरी स्थित बालाजी नगर में ओपन थिएटर तैयार कर रहा हूं। यह थिएटर गार्डन में बनाया जा रहा है। भेल क्षेत्र में कोई भी ओपन थिएटर या ऑडिटोरियम नहीं है। फिलहाल हमारा ग्रुप गांधी भवन में रिर्हसल कर रहा है। दरोगा, मदर करेज एण्ड हर चिल्ड्रन और यस सर की तैयारी कर रहे हैं। अक्टूबर में थिएटर तैयार हो जाएगा। वहीं, इन तीनों नाटकों का मंचन करेंगे। जल्द ही ओपन थिएटर में रिर्हसल भी शुरू करेंगे।

hitesh sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned