दिन में सड़क तो रात में गलियों में वाहनों की कतार, रखने के लिए नहीं है सरकारी जगह

पुराने शहर में नए पाइंट बनाने का मामला अटका, नहीं मिल रहे नए स्पॉट

 

By: शकील खान

Published: 25 Sep 2021, 11:33 PM IST

भोपाल. पुराने शहर में जगह की कमी है। बाजार संकरी गलियों में है तो वाहन रखने सड़क पर भी जगह नहीं है। नगर निगम को इन्हें रखने के लिए नए स्पॉट नहीं मिल है। जिसके चलते नो व्हीकल जोन से लेकर नो एंट्री की कई योजनाएं फेल हो गईं। इस क्षेत्र में अब कुछ पुराने भवनों को तोड़कर पार्र्किंग बनाने की योजना है।
पुराने शहर की मुख्य सड़कों से हर घंटे करीब दस हजार वाहन सड़क से गुजरते हैं। मुख्य बाजार के साथ आवासीय क्षेत्र होने के कारण यहां दिन-रात वाहन रहते हैं। दिन में तो कुछ स्थानों पर कार्रवाई हो जाती है लेकिन रात के समय गलियों से वाहन हटाने कोई प्रावधान ही नहीं है। न कोई जुर्माना है न ही कोई कार्रवाई। ऐसी में गलियां ही पार्किंग स्थल बन गई। यहां लोगों ने फ्लैट कर कई परिवारों को रख लिया,लेकिन उनके साथ आने वाली गाडिय़ों के लिए पार्किंग नहीं बनाई, जिसके कारण मकान मालिकों से लेकर किराएदार तक के वाहन रात में सड़क किनारे पार्क हो रहे हैं। जिसके कारण रात में पुराने शहर की आबादी जाम हो जाती है।

निर्देश पर नहीं अमल
एम्बुलेंस का गुजरने जगह बनाने के लिए रात में लोगों के दरवाजे खटखटाने पड़े ताकि सड़क से वाहन हट सके। पार्किंग और मल्टी स्टोरी घरों के नीचे बेसमेंटे में पार्किंग के लिए जगह रखने का आदेश कई बार जारी तो हुआ, लेकिन पुराने शहर में इस पर अमल नहीं करवाया जा सका है।

8 साल पहले कार्रवाई
सड़कों पर पार्क हो रहे वाहनों पर नगर निगम ने करीब आठ साल पहले कार्रवाई शुरू की थी। तात्कालिन कमिश्रर मनीष सिंह के समय गलियों में खड़े कंडम वाहनों की जब्ती और चालानी कार्रवाई की गई थी। कुछ समय बाद ये कार्रवाई बंद हो गई। उसके बाद से कोई कार्रवाई नहीं हुई।

ओपन स्पेस कम

पुराने शहर में दिक्कत ज्यादा है। यहां वाहनों की संख्या के मुकाबले ओपन स्पेस कम है। इस कारण दिक्कत होती है। इससे निपटने कोशिश हो रही है। शहर में वाहनों को रखने के लिए जगह चिन्हित है।
प्रेमशंकर शुक्ला, प्रवक्ता ननि

शकील खान
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned