टोल टैक्स बचाने के चक्कर में लोगों की ले लेते हैं जान

- 11 मील बाइपास से टोल नाका से टैक्स बचाने के लिए छान से होकर गुजरते भारी वाहन, लाखों की राजस्व हानि
- सड़क पर स्थानीय रहवासियों का रहता है आवागमन, हादसे की आशंका
- चौबीस घंटे वाहनों का शोरगुल और प्रदूषण, एक वृद्ध को कुचलकर मार डाला था डम्पर ने
- टैक्सी, कार, आटो, मैजिक, लोडिंग टेम्पो, जेसीबी, डम्पर, ट्रक आदि हजारों वाहन गुजरते चौबीस घंटे

भोपाल. टोल टैक्स बचाने के लिए छान गांव होकर निकलने वाले वाहन रहवासियों के लिए जानलेवा बन गए हैं। एक महीने पहले एक वृद्ध को भारी वाहन ने रौंदकर मार डाला था। इसके सिवा कई जानवरों को भी वाहन कुचलकर मार चुके हैं और कई रहवासियों को टक्कर मारकर घायल किया जा चुका है।

रहवासियों का कहना है कि टोल टैक्स चोरी में पुलिस भी वाहन चालकों का साथ देती है, जिससे उनके हौंसले बुलंद हैं। हालत यह है कि चौबीस घंटों में टैक्सी, कार, आटो, मैजिक, लोडिंग टेम्पो, जेसीबी, डम्पर, ट्रक आदि हजारों वाहन धड़धड़ाते हुए छान से गुजरते हैं। इससे हादसे की आशंका तो रहती ही है, शोरगुल और प्रदूषण भी अधिक होता है।

उल्लेखनीय है कि वार्ड 85 में आने वाले छान गांव में एक हजार से अधिक लोगों की आबादी है। यह गांव एक तरफ भोजपुर रोड और दूसरी तरफ इंदौर-देवास रोड से जुड़ा हुआ है। इंदौर रोड पर टोल नाका बना हुआ है।

यह नाका पहले ट्रांसट्रॉय कंपनी संचालित कर रही थी, जिसे बाद में शासन द्वारा संचालित किया जा रहा है। टोल टैक्स बचाने के लिए हल्के, मध्यम और भारी वाहनों को छान गांव से होकर निकाला जा रहा है। प्रतिदिन हजारों वाहन गांव से धड़धड़ाते हुए निकलते हैं, जिससे एक ओर तो रहवासियों, स्कूली बच्चों, मवेशी की जान को खतरा रहता है और दूसरी ओर रोजाना लाखों रुपए टोल टैक्स का नुकसान होता है।

छान रोड का प्रयोग कर भोपाल, मंडीदीप, बंगरसिया, हरिपुरम, राधापुरम, इंडस टाउन, रतनपुर आदि के वाहन इंदौर-देवास रोड पर बिना टैक्स दिए निकलते हैं। कई कॉलेजों की बड़ी बसें भी यहीं से गुजरती हैं। मंगलवार को भानपुर में पशु बाजार के कारण वाहनों का आवागमन काफी बढ़ जाता है।

ये हुईं खास घटनाएं
- एक महीने पूर्व छान निवासी 80 वर्षीय वृद्ध रामप्रसाद प्रजापति को भारी वाहन ने कुचलकर मार डाला।
- एक महीने पूर्व ढापू बाई अहिरवार की बकरी एक तेज रफ्तार कार की टक्कर से मरी।
- छह महीने पूर्व रेखा मेहर पत्नी हलके सिंह का कार की टक्कर से हाथ टूटा।
- मुर्गी वाली पिक अप गाड़ी ने एक्सीडेंट किया।
- राजा मियां के भाई को टक्कर मारकर कार दौड़ाकर चालक भाग गया।
- मथुराबाई के घर के सामने वाहन ने कुत्ते को कुचलकर मारा।
- वाहन चालक सरदार ने ग्रामीण पर चाकू से हमला किया, पवन नामक युवक ने बचाया।
- एक गाय को रात में वाहन ने टक्कर मारकर मार डाला।

वाहनों के अवैध रूप से निकलने के कारण रहवासियों और मवेशी की जान पर बनी रहती है। आएदिन कहासुनी होती है। वृद्ध को कुचलकर मारे जाने के बाद नगर निगम ने बैरियर लगाने की बात कही थी, लेकिन कुछ किया नहीं।
- बसंत कुमार साहू, स्थानीय रहवासी

अभी स्वच्छता अभियान चल रहा है। उसके बाद वहां पर वाहनों को रोके जाने के उपाय किए जाएंगे।
- विक्रम झा, जोनल अधिकारी, जोन-19

दिनेश भदौरिया Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned