राजकुमारी को देख राजा ऐसे मोहित हुए कि सेना को छोड़ वन में रुक गए

शहीद भवन में नाटक पर्णिका का मंचन

 

भोपाल. शहीद भवन में कर्मयोगी क्रिएटिव ग्रुप द्वारा मंगलवार को नाटक 'पर्णिकाÓ का मंचन किया गया। इस नाटक का लेखन व निर्देशन नितिश दुबे ने किया गया। एक घंटे 10 मिनट के इस नाटक में एक-दूसरे के प्रति कपट, क्रूरता और हिंसा पर सत्य और प्रेम की विजय को दर्शाया गया। जिसे काव्य छन्द के माध्यम से प्रस्तुति किया गया।

नाटक की कहानी राजा अथर्व की है। वे युद्ध विजय करने के बाद अपने राज्य लौट रहे होते हैं। रात होने पर वे जंगल में ही विश्राम के लिए रुक जाते हैं। भ्रमण के दौरान उनकी नजर वन की राजकुमारी पर्णिका पर पड़ती है। दोनों को एक-दूसरे से प्रेम हो जाता है। राजा, सेना को राज्य लौटने का आदेश देते हैं और स्वयं कुछ दिन पर्णिका के साथ वन में ही रुक जाते हैं। राजपुरोहित क्रोधित होकर राजा को वापस लौटने का आदेश देते हैं। राजा पर्णिका को पालकी में ले जाने का वचन देकर राज्य चले जाते है और राजपुरोहित को सारी बात बताते है। राजपुरोहित दोनों की कुंडली बनाने का ढोंग करता है, और राजा को बताता है कि पर्णिका से विवाह करते ही राजा की मृत्यु हो जाएगी।

राजपुरोहित करता है षडयंत्र
नाटक की अगली कड़ी में दिखाया कि राजा का मित्र भेला राजपुरोहित के षडय़ंत्र समझ जाता है और राजा को सब कुछ बता देता है। राजा पर्णिका को लेने वन जाने लगते है। वहीं, राजपुरोहित अपने जादू से मायावी राक्षसों को बनाता है। राजा और राक्षसों में युद्ध होता है और राजा की विजय होती है। राजा राजपुरोहित को मृत्यु दंड देते है। राजकुमारी पर्णिका को पालकी पर बैठाकर अपने राज्य ले जाता है।

hitesh sharma
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned