scriptpolice encounter in balaghat mp | देर रात मिली नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना, पहाड़ी पर बना रखा था ठिकाना | Patrika News

देर रात मिली नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना, पहाड़ी पर बना रखा था ठिकाना

-सौ से अधिक नक्सली सक्रिय हैं मप्र में, छत्तीसगढ़ में सख्ती बढ़ते ही मप्र का करते हैं रुख
-हॉक फोर्स एएसपी की अगुआई में 26 पुलिस जवानों की टीम जैसे ही पहुंची पहाड़ी पर नक्सलियों ने की फायरिंग

भोपाल

Published: June 22, 2022 09:38:20 pm

मनीष कुशवाह
भोपाल. नक्सलियों के बालाघाट जिले के ग्राम खराड़ी के कादला जंगल में मौजूदगी की सूचना कई दिनों से हॉक फोर्स और बालाघाट पुलिस को मिल रही थी। इंतजार था सटीक सूचना का। रविवार देर रात हॉक फोर्स के अफसरों को नक्सलियों के जंगल में मौजूद पहाड़ी पर डेरा जमाए होने की सूचना मिली तो हॉक फोर्स एएसपी की अगुआई में 26 पुलिसकर्मियों ने तत्काल मौके पर कूच किया। सोमवार सुबह 5.15 पर जैसे ही टीम पहाड़ी के पास पहुंची तो नक्सलियों ने खतरे को भांपते हुए फायरिंग शुरू कर दी। अलर्ट हॉक फोर्स जवानों ने तत्काल पोजिशन लेते हुए जवाबी कार्रवाई की। बारिश के बीच खुद को बचाते हुए टीम ने नक्सलियों को ढेर किया। तकरीबन 45 मिनट हुई फायरिंग के बाद सन्नाटा छा गया। जवानों ने सावधानीपूर्वक सर्चिंग शुरू की तो सबसे पहले नक्सली वर्दी में नागेश उर्फ नागेश्वर उर्फ तुलावी का शव मिला, पास ही में एके-47 मिली। तकरीबन 150 मीटर दूरी पर एक महिला और एक पुरुष नक्सली का शव मिला। इनके पास एक थ्री नॉट थ्री राइफल, एक रिवॉल्वर, एक सिंगल शॉट 315 बोर राइफल मिली। इनकी पहचान मनोज और रामे के रूप में हुई।
देर रात मिली नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना, पहाड़ी पर बना रखा था ठिकाना
देर रात मिली नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना, पहाड़ी पर बना रखा था ठिकाना
21 एके-47 और सेटेलाइट फोन से लैस थी पुलिस टीम
नक्सलियों की धरपकड़ के लिए एएसएपी की अगुआई में निकली पुलिस टीम में 26 पुलिसकर्मी शामिल थे। इनमें एक एसआइ, चार एएसआइ, तीन प्रधान आरक्षक समेत 15 आरक्षक थे। पुलिस टीम के पास 21 एके-47, चार एक्स कैलीबर और एक इंसास राइफल थी। संचार के लिए एक सेटेलाइट फोन का भी उपयोग टीम कर रही थी।
लांजी में दो नागरिकोंं तो छग में दो पुलिसकर्मियोंं की हत्या का आरोप
नक्सली कमांडर नागेश उर्फ नागेश्वर उर्फ तुलाजी ने वर्ष 2017 और 2019 में मप्र के लांजी में दो नागरिकों की हत्या की थी। नागेश के खिलाफ मप्र में दस से अधिक अपराध दर्ज थे। नागेश ने वर्ष 2017 में राजनंदगांव (छग) के गातापार में पुलिस पार्टी पर हमला किया था, जिसमें आरक्षक सुखुराम शहीद , जबकि आरक्षक आशुराम गंभीर घायल हुए थे। नागेश ने इसी साल पुलिस पार्टी पर फिर हमला किया, जिसमें एसआइ युगल किशोर शहीद हुए, जबकि आरक्षक कृषलाल साहू गंभीर घायल हो गए थे। नागेश के खिलाफ छग के गातापार थाने में तीन केस दर्ज थे। मप्र सरकार ने नागेश पर पांच लाख, महाराष्ट्र ने 16 लाख और छग सरकार ने 8 लाख रुपए का इनाम घोषित किया था। नागेश कई नक्सली हमलों में शामिल था। वह मराठी, गोंडी, हिन्दी और छत्सीसगढ़ी भाषा का जानकार था। दूसरे नक्सली मनोज के खिलाफ लांजी थाने में दो तो राजनंदगांव जिले के बागनदी थाने में एक केस दर्ज है। महिला नक्सली रामे के खिलाफ मप्र के मलाजखंड, गढ़ी, किरनापुर, बैहर, बिरसा और रूपझा थाने में दस केस दर्ज हैं। राजनंदगांव के गातापार थाने में रामे के खिलाफ दो केस हैं। रामे गातापार (छग) में हुए पुलिस पार्टी में हमले में कमांडर नागेश के साथ शामिल थी। रामे ने वर्ष 2019 में गातापार मेंं पुलिस पार्टी पर हुए हमले में सक्रिय भूमिका निभाई थी। इसमें एक महिला जमुना बाई की मौत हुई थी, जबकि आरक्षक गंभीर घायल हुआ था।
100 से अधिक नक्सली हैं मप्र में सक्रिय
मप्र के बालाघाट रेंज और छत्तीसगढ़ से लगी सीमा में सौै से अधिक नक्सली सक्रिय हैं। छत्तीसगढ़ सरकार का कहना है कि प्रदेश में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के कारण नक्सलियों ने मप्र की ओर रुख किया है। यहां बता दें, कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के कोर एरिया में नक्सलियों की मूवमेंट की सूचना पहले भी मिलती रही है। इसके चलते मप्र सरकार ने केंद्र सरकार से सीआरपीएफ की तीन बटालियन की मांग की थी। हालांकि इस पर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहराJDU नेता उपेंद्र कुशवाहा ने क्यों कहा, 'बिहार में NDA इज नीतीश कुमार एंड नीतीश कुमार इज NDA'?कन्हैया की हत्या को माना षड्यंत्र, अब 120 बी भी लागूकानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या मामले पर नवनीत राणा ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी, की ये बड़ी मांगmp nikay chunav 2022: दिग्विजय सिंह के गैरमौजूदगी की सियासी गलियारे में जबरदस्त चर्चाबहुचर्चित अवधेश राय हत्याकांड में बढ़ी माफिया मुख्तार की मुश्किलें, जाने क्या है वजह...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.