शब्दभेदी बाण से मोहम्मद गौरी को मार देते हैं पृथ्वीराज चौहान

न्यू नॉर्मल: नाटक 'पृथ्वीराज चौहान' का मंचन

By: hitesh sharma

Published: 13 Oct 2020, 11:09 PM IST

भोपाल। चेतना रंगसमूह के तीन दिवसीय नाट्य समारोह में पहले दिन नाटक 'पृथ्वीराज चौहान' का मंचन नीलबड़ स्थित चेतना टेरेस थिएटर में किया गया। इसका लेखन, निर्देशन व परिकल्पना आशीष श्रीवास्तव की है। कलाकारों ने ओपन थिएटर में नाटक की प्रस्तुति दी। नाटक में दिखाया गया कि दिल्ली के चक्रवर्ती राजा पृथ्वीराज चौहान ने लगातार 17 बार सुल्तान मोहम्मद गौरी को युद्ध में हराया और हर बार गौरी के माफी मांगने पर उसे क्षमादान दिया। मोहम्मद गौरी को सत्रवीं बार की हार के बाद यह एहसास हो गया की वह भारत के किसी वीर राजा की मदद के बिना पृथ्वीराज को नहीं हरा सकता है। इसलिए वह किसी राजा को अपने साथ मिलाने की योजना बनाने लगा।

भेष बदलकर खड़े हो जाते हैं पृथ्वीराज
कन्नौज का राजा जयचंद आप को भारत का सबसे शक्तिशाली राजा समझता था और खुद चक्रवर्ती सम्राट कहलवाने के लिए उसने राजसूर्य यज्ञ और अपनी एकमात्र पुत्री संयोगिता के स्वयंवर का आयोजन किया। उसने सभी राजाओं को आमंत्रित किया लेकिन पृथ्वीराज की प्रसिद्धि से जलकर उसने न तो पृथ्वीराज को आमंत्रित किया बल्कि उसको अपमानित करने की इरादे से स्वयंवर में उसका एक पुतला बनाकर उसको द्वारपाल के स्थान पर खड़ा करवा दिया।
पृथ्वीराज भेष बदलकर स्वयंवर में आता है और पुतला बनकर खड़ा हो जाता है। भरे दरबार में हुई अपनी बेइज्जती और अपनी पुत्री के हरण के कारण जयचंद तिलमिला जाता है और दूत से मोहम्मद गौरी को यह संदेश भिजवाता है कि वह फिर से पृथ्वीराज पर आक्रमण करे और इस बार उसकी पूरी सेना इस युद्ध में उसका साथ देगी। विवाह के बाद पृथ्वीराज का ध्यान राजकार्य में नहीं लगता। इधर मोहम्मद गौरी फिर से आक्रमण करता है पृथ्वीराज, मोहम्मद गौरी और जयचंद के सेनाओं के मध्य युद्ध होता है। इस बार पृथ्वीराज की पराजय होती है। पृथ्वीराज चूंकि शब्द बाण चलाना जनते हैं जैसे ही गौरी पृथ्वीराज को तीर चलाने का आदेश अपने दरबार में देता है, पृथ्वीराज गौरी की आवाज की दिशा में तीर चलाकर मोहम्मद गौरी को मार देता है।

शब्दभेदी बाण से मोहम्मद गौरी को मार देते हैं पृथ्वीराज चौहान

परिवार का गौरव होती है बेटी
एडमायर थिएटर गुप के पांच दिवसीय फेसबुक ऑनलाइन नाट्य समारोह में मंगलवार को नाटक 'बैयसाखी' का प्रदर्शन हुआ। इसके निर्देशक आनंद मिश्रा है जबकि लेखन योगेश त्रिपाठी ने किया है। इसमें सघन सोसायटी के कलाकारों ने अभिनय किया है। नाटक में दिखाया गया कि हमारे समाज में कई परिवारों में देखा गया है कि उनकी तरक्की में बेटियों का बड़ा योगदान होता है। ऐसे ही एक निरक्षर परिवार की कहानी है। जिसमें पारंपरिक पिता और प्रगतिशील मां है। एक दुर्घटना में वह विकलांग हो जाती है। इसके बावजूद उसका आत्म विश्वास कम नहीं होता और वो परिवार के गौरव का कारण बनती है।

hitesh sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned