MANIT: प्रोफेसर इंचार्ज सिक्योरिटी को ही मिल गई जान से मारने की धमकी,जानिये पूरा मामला

Deepesh Tiwari

Publish: Sep, 17 2017 11:50:52 (IST) | Updated: Sep, 17 2017 12:27:41 (IST)

Bhopal, Madhya Pradesh, India
MANIT: प्रोफेसर इंचार्ज सिक्योरिटी को ही मिल गई जान से मारने की धमकी,जानिये पूरा मामला

इससे पहले मैनिट के आरके साल्वे को लिफाफे में जिंदा कारतूस भेजकर धमकी दी गई थी।

भोपाल। मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मैनिट) में प्रोफेसर इंचार्ज सिक्योरिटी डॉ. आरके द्विवेदी को जान से मारने की धमकी देने का मामला सामने आया है। यह धमकी मैनिट के ही एक संविदा शिक्षक के द्वारा बाहर से गुंडे बुलाकर दिलाई गई। वे रात को सुरक्षा व्यवस्था देखने राउंड पर निकले थे।

इस दौरान वे अन्य दो फैकल्टी के साथ चर्चा कर रहे थे, तभी एक कार रुकी और चार-पांच लोग बाहर निकले और गाली गलौज करने लगे। यह घटना शुक्रवार रात 11 बजे के आसपास की है। इनके बीच करीब एक घंटे तक बहस चलती रही।
कमला नगर थाने व डायरेक्टर डॉ. नरेंद्र सिंह रघुवंशी को इसकी शिकायत की गई है। वे अमूल कैफेटेरिया के पास दो फैकल्टी राजेश पटेरिया, संजय सोनी के साथ खड़े थे तभी चार-पांच लोग आकर गाली-गलौज करने लगे और कहा कि जान से मार के फिकवा देंगे पता भी नहीं चल पाएगा। डॉ. द्विवेदी ने सुरक्षाकर्मियों को टाइट कर रखा है। इसलिए इस मामले को सुरक्षा से जोड़कर भी देखा जा रहा है।

गौरतलब है कि मैनिट में सुरक्षा अधिकारी को धमकी मिलने का यह दूसरा मामला है। इससे पहले आरके साल्वे को लिफाफे में जिंदा कारतूस भेजकर धमकी दी गई थी। डॉ. द्विवेदी का पद सुरक्षा अधिकारी से ऊपर है। इस संबंध में डायरेक्टर नरेंद्र सिंह रघुवंशी से संपर्क नहीं हो सका। प्रवक्ता अजय वर्मा ने कहा कि उन्हें इस घटना की अधिकारिक तौर पर कोई जानकारी नहीं मिली है।

यह संस्थान के परिसर का मामला है और इसकी जानकारी रजिस्ट्रार व डायरेक्टर को दे दी गई है, इसलिए इस संबंध में कोई भी टिप्पणी नहीं करूंगा।
- डॉ. आरके द्विवेदी, प्रोफेसर इंचार्ज सिक्योरिटी मैनिट

अभद्रता मैंने नहीं प्रोफेसर द्विवेदी ने की थी। मैं उनका पूरा सम्मान करता हूं। इस संबंध में मैंने भी एफआईआर कमलानगर थाने में दर्ज कराई है।
- केके राय, संविदा शिक्षक, मैनिट

इससे पहले सिक्योरिटी ऑफिसर को भी मिली थी धमकी :-
मौलाना आजाद राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मैनिट) के सुरक्षा अधिकारी आरके साल्वे को स्पीड पोस्ट से शुक्रवार को एक धमकी भरा पत्र मिला था। जिसमें सभी पदों से इस्तीफा देने के लिए कहा है। धमकी देने वाले ने लिखा है कि ‘बार बार समझाने पर भी तुम्हारी समझ में नहीं आ रहा है। 7 दिन का टाइम दे रहा हूं सभी पदों से त्यागपत्र दे दो। वरना ये गोली तुम्हारी खोपड़ी में डलवा दूंगा।
पुलिस में जाने की कोशिश तो बिलकुल मत करना, वरना 7 दिन भी नहीं मिलेंगे।’ पत्र के साथ लिफाफे में बाकायदा जिंदा कारतूस भी भेजी है। कमला नगर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली।

लिफाफे पर भेजने वाले का नाम गोविंद कुमार और पता 52 करोंद लिखा था। मैनिट में पिछले एक महीने के दौरान पद छोड़ने के लिए दबाव बनाने का दूसरा मामला है। पिछले महीने भी प्रभारी रजिस्ट्रार डॉ. एनडी मित्तल पर इस तरह का दबाव बनाया गया था। जबकि पूर्व सुरक्षा अधिकारी प्रदीप कुमार भट्ट को भी पद से इस्तीफा देने के लिए धमकाया जा चुका है।

साल्वे का कहना था कि उनके पास स्टेट ऑफिसर पद की भी जिम्मेदारी है। पिछले सात-आठ महीने से सभी पदों से इस्तीफा देने के लिए लगातार फोन पर धमकियां मिल रही थी। पहले इसे गंभीरता से नहीं लिया। अब तो स्पीड पोस्ट से धमकी भरा पत्र मिला। साल्वे ने बताया कि दोपहर साढ़े बारह बजे स्पीड पोस्ट मिला था। आरटीआई का आवेदन सोचकर खोला तो इसमें जिंदा कारतूस के साथ धमकी भरा पत्र निकला। डायरेक्टर प्रो. नरेंद्र चौधरी को इसकी सूचना तत्काल दी गई। डायरेक्टर ने इस मामले की शिकायत पुलिस थाने में करने काे कहा।

प्रोफेसर बनना चाहते हैं सुरक्षा अधिकारी :
मैनिट के सुरक्षा अधिकारी व स्टेट ऑफिसर के पद पर टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ की नजरें होना बताया जाता है। सूत्र बताते हैं कि संस्थान के कुछ सीनियर प्रोफेसर इन पदों पर पदस्थ होना चाहते हैं। नॉन टीचिंग स्टाफ के कुछ सीनियर भी इस पद के लिए प्रयासरत हैं। इस संबंध में पहले भी डायरेक्टर को जानकारी दी जा चुकी है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned