फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ राजधानी में विरोध प्रदर्शन, कोरोना गाइडलाइन तोड़ने पर हजारों पर केस दर्ज

मुस्लिम समाज ने राजधानी भोपाल में फ्रांस के राष्ट्रपति के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान शहर के इकबाल मैदान में हजारों की संख्या में लोग जुड़े। इस दौरान विधायक आरिफ मसूद समेत 2 हजार लोगों के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने का केस भी दर्ज हुआ।

By: Faiz

Published: 29 Oct 2020, 10:22 PM IST

भोपाल/ मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के इक़बाल मैदान में गुरुवार को हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए, ये लोग फ्रांस के राष्ट्रपति का विरोध कर रहे थे। विरोध प्रदर्शन विधायक आरिफ मसूद के नेतृत्व में किया गया, जिसमें भारी संख्या में भीड़ के साथ-साथ कई मुस्लिम धर्मगुरु भी शामिल हुए। दरअसल, फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने पैगम्बर मोहम्मद साहब का एक विवादित चित्र का समर्थन किया, जिसे लेकर मुस्लिम समुदाय के लोगों द्वारा दुनियाभर में विरोध किया जा रहा है। इसी तर्ज पर भोपाल में भी लोगों ने हाथ में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करते हुए फ्रांस के राष्ट्रपति से माफी मांगने की अपील की। हालांकि, बड़ी संख्या में भीड़ इकट्ठी करने को लेकर विधायक मसूद समेत 2 हजार लोगों के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने का मामला भी दर्ज हो गया है।

 

पढ़ें ये खास खबर- भाजपा प्रत्याशी के प्रचार में भीड़ जुटाने के लिए महिलाओं को नचाने पर विवाद, वीडियो वायरल


विधायक समेत 2 हजार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

news

शहर के तलैया थाना पुलिस ने विधायक आरिफ मसूद समेत 2 हजार अज्ञात लोगों के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने का केस दर्ज किया है। थाना प्रभारी दिनेश प्रताप सिंह के मुताबिक, संबंधित लोगों के खिलाफ कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन को लेकर केस दर्ज किया गया है। हालांकि, मामले को लेकर विधायक आरिफ मसूद ने भी सफाई दी।

 

पढ़ें ये खास खबर- सरकार का बड़ा तोहफा, दिवाली से पहले हुई इनकी चांदी


विधायक मसूद बोले- चाहे जो भी हो जाए, हम हक पर डटे रहेंगे

विधायक आरिफ मसूद ने पत्रिका से बातचीत के दौरान कहा कि, एक तरफ प्रदेश की 29 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने जा रहे हैं, जिसे लेकर सभी राजनीतिक दल चुनावी सभाओं में हजारों की संख्या में लोगों को इकट्ठा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि, इनके खिलाफ तो किसी तरह का मामला अब तक दर्ज नहीं हुआ। लेकिन, अगर हम अपने हित, अपनी भावना, अपने मज़हब और अधिकार के लिए सड़क पर न्याय मांगने आते हैं, तो हमारे खिलाफ मामला दर्ज होता है। विधायक मसूद ने कहा कि, भले ही हमारे खिलाफ कितने ही मामले दर्ज होते रहें, लेकिन हम हक की बात कहने से कभी पीछे नहीं हटेंगे।


फ्रांस से सभी रिश्ते तोड़े भारत

news

पैगम्बर मोहम्मद साहब की शान में गुस्ताखी करने वाले फ्रांस के राष्ट्रपति का जिक्र करते हुए विधायक आरिफ मसूद ने भारत सरकार से भी अपील की है कि, वो फ्रांस के साथ सभी आर्थिक रिश्ते तोड़े। उन्होंने कहा कि, फ्रांस के राष्ट्रपति ने दुनियाभर के साथ साथ भारत के मुसलमानों को भी आहत किया है। इसलिए प्रधानमंत्री मोदी फ्रांस से सभी तरह के आयात और निर्यात के लेनदेन बंद कर दें।

 

पढ़ें ये खास खबर- कैंडिडेट को लालच देने के वायरल ऑडियो पर बोले दिग्विजय- 'यह सच है, मैं कहकर पलटता नहीं'


भारत समेत विश्वभर में शुरु हुआ आंदोलन

बताया जा रहा है कि फ्रांस के राष्ट्रपति ने पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के विवादित कार्टून का समर्थन करते हुए उनके खिलाफ अभद्र टिप्पणी की, जिसके चलते विश्व भर के मुस्लिम समुदाय में आक्रोश है, जगह जगह विरोध प्रदर्शनों में फ्रांस के राष्ट्पति के पुतले और पोस्टर जलाए जा रहे हैं। दुनियाभर में मुस्लिम समुदाय के रहनुमाओं ने फ्रांस के राष्ट्रपति से माफी की अपील की है, साथ ही ये भी कहा कि, जब तक वो माफी नहीं मांगेंगे, तब तक विश्वभर में इसी तरह का आंदोलन जारी रहेगा। भारत में भी कई जगहों पर इस तरह के आंदोलन शुरु हो गए हैं।


इस बात पर शुरु हुआ वरोध

News

सितंबर महीने में विवादित कार्टून मैग्जीन चार्ली हेब्दो ने पैगम्बर मुहम्मद साहब का एक विवादित कार्टून एक बार फिर अपनी मैग्जीन में छाप दिया। इससे पहले साल 2015 में भी इसी कार्टून को छापने को लेकर चार्ली हेब्दो के दफ्तर पर हमला भी हुआ था। इस संबंध में 14 आरोपियों के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ, जिनकी हालही में सुनवाई भी शुरू होने वाली थी। लेकिन, इससे एन पहले चार्ली हेब्दो ने एक बार फिर वही कार्टून छाप दिया। विवाद तब शुरु हुआ, जब फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन इसी महीने की शुरुआत में चित्र का समर्थन करते हुए कह दिया कि, वो इस्लामिक अलगाववाद से लड़ना चाहते हैं। इस दौरान उन्होंने ये भी कहा कि, ये धर्म पूरी दुनिया में आज संकट के दौर से गुजर रहा है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned