जमाखोरों की प्याज रह गई रखी, तीसरे दिन 2575 लोगों ने 32 क्विंटल प्याज खरीदी

- खाद्य विभाग ने शहर में अलग-अलग चार जगह लगा रखी हैं स्टॉल, अब अगली बारी प्याज की जमाखोरी करने वालों की

भोपाल। शहर में अचानक प्याज की जमाखोरी कर प्याज के रेट को आसमान पर ले जाने वाले जमाखोरों के मंसूबे धरे रह गए। पिछले तीन दिन से खाद्य विभाग शहर में अलग-अलग स्थानों पर स्टॉल लगाकर प्याज की बिक्री कर रहा है। शुक्रवार को 2575 लोगों ने 50 रुपये किलो प्रति व्यक्ति के हिसाब से 32 क्विंटल प्याज खरीदी है। प्रशासन का अगला कदम अब जमाखोरों की धरपकड़ और उनके गोदामों पर छापा मारने का है। इसको लेकर शुक्रवार से ही टीमों ने सक्रियता बढ़ा दी है।

शहर में प्रतिदिन जहां-जहां हाट बाजार और सब्जी बाजार लगते हैं खाद्य विभाग की स्टॉल उन क्षेत्रों में स्थान बदल-बदल कर लगाई जा रही है। दुकानदार अगर ज्यादा रेट में प्याज बेचते हैं तो स्टॉल पर बिक रही प्याज के चलते उनके रेट डाउन हो जाते हैं। जिला खाद्य आपूर्ति अधिकारी ज्योति शाह नरवरिया ने बताया कि बुधवार से शुक्रवार तक 70 क्विंटल से अधिक प्याज रियायती दर पर स्टॉल लगाकर बेची जा चुकी है। शनिवार के लिए बिट्टन मार्किट, कोलार, बीएचईएल और बैरागढ़ सब्जी मंडी में प्याज विक्रय केंद्र बनाए गये हैं। जहां पर दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक प्याज आम जनता के लिए उपलब्घ है। जिन लोगों को प्याज बेची जा रही है, उनके नाम रजिस्टर्ड में दर्ज किए जा रहे हैं।

शहर और आस-पास के गोदामों में स्टॉक है प्याज

राजधानी और आस-पास बड़ी संख्या में लोगों के गोदाम हैं। सबसे ज्यादा गोदाम सिहोर रोड, करोद मंडी के पास हैं। जहां प्याज की जमाखोरी ज्यादा की जाती है। खाद्य आपूर्ति अधिकारी ज्योतिशाह नरवरिया का कहना है कि प्याज की जमाखोरी करने वालों की जांच शुरू हो चुकी है।

प्रवेंद्र तोमर
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned