प्यारे मियां कांड से जुड़ी एक पीड़िता ने खाया जहर, परिजनों ने लगाये गंभीर आरोप

- बालिका गृह में रह रही है 5 लड़कियां
- दो बच्चियों की बिगड़ी है हालात
- हमीदिया अस्पताल में किया एडमिट
- देर रात दी परिजनों को सूचना
- परिवार के लोगों ने लगाये गंभीर आरोप

By: Hitendra Sharma

Published: 19 Jan 2021, 02:11 PM IST

भोपाल. राजधानी भोपाल में नाबालिग लड़कियों के यौन शोषण मामले में बड़ी खबर सामने आई है। मामले में पीड़ित लड़कियों में से दो बच्चियों की हालत खराब हो गई है। परिजनों का आरोप है कि एक बच्ची के जहर खा लिया है और उसे जहर बालिका गृह में ही दिया गया है।

देर रात को हुई इस घटना के बाद लड़कियों को हमीदिया अस्पताल में एडमिट किया है। अस्पताल के डॉक्टर्स का कहना बच्ची हालात में अभी तक सुधार नहीं हो पाया है। परिजनों ने आरोप लगाया है कि उनकी लड़की को जहर बाल संरक्षण गृह में दिया गया है। वह बाल संरक्षण और आला अधिकारियों को बच्चियों को छोड़ने के लिए कई बार आवेदन भी दे चुके हैं पर सुनवाई नहीं हो पा रही है।

राजधानी में प्यारे मिया मामले में लगभग 6 महीने से 5 बच्चियों को बाल संरक्षण ने अपनी कस्टडी में रखा है। बताया जा रहा है कि बच्ची को मानसिक अवसाद से निकालने के लिए नींद की गोलियां डॉक्टर ने लिखी थी, कुछ बच्चियों का कहना है कि वही गोलियां ज्यादा मात्रा में खा ली हैं। बताया जा रहा है कि शाम को खाना खाने के बाद हालत बिगड़ गई थी। जब इसका पता बालिका गृह के कर्मचारियों को चला तो तुरन्त हमीदिया लेकर पहुंचे। बालिका गृह के कर्मचारियों ने देर रात को ही लड़कियों के परिजनों को सूचना दे दी गई थी।

होश में आने के बाद होगे बयान
हमीदिया अस्पताल के डॉक्टर्स के अनुसार बच्ची अब तक होश में नहीं है, लड़की की हालत गंभीर बनी हुई है। उसके होश में आने के बाद ही बयान हो सकेंगे। गौरतलब है कि शुक्रवार को नेहरू नगर बालिका गृह में जमकर हंगामा हुआ था। और लड़िकयों ने अधीक्षिका के साथ भी झूमाझटकी की बालिका गृह में तोड़फोड़ की। विवाद के पीछे नाबालिग लड़कियों के घर जाने की जिद बताई गई थीं। मामले को पुलिस की समझाइस के बाद शांत कराया गया।

freepressjournal_2020-07_0a847731-a27a-4bd3-8728-ff35f80e5c53_1607_20200716145l.jpg

भोपाल में चार नाबालिग लड़कियों से बलात्कार के आरोपी अख़बार के मालिक प्यारे मियां को जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर से गिरफ्तार किया गया था। आरोपी के सिर पर 30,000 रुपये का इनाम था। आरोपी की गिरफ्तारी के बाद एसपी (दक्षिण) सांई कृष्णा थोता ने एक साक्षात्कार में बताया कि, मियां पिछले कुछ वर्षों में नाबालिग लड़कियों के साथ यूके, स्विटजरलैंड और थाईलैंड की यात्रा कर चुके हैं। उन विदेश यात्राओं में से कुछ का अप्रत्यक्ष उद्देश्य उनकी बीमारियों का इलाज था। उन्होंने व्यापार-संबंधी यात्रा के रूप में अन्य यात्राएं भी कीं।

चाइल्ड लाइन डायरेक्टर अर्चना सहाय बताया कि, मियां इंदौर में सफाई करने के बहाने नाबालिगों को उनकी अलग-अलग संपत्तियों में ले जाता रहा। पीड़ितों में से एक की दादी भी कथित आरोपी की साथी थी, जो अब पुलिस गिरफ्त में है। उन्होंने कहा कि, 55 वर्षीय दादी की उपस्थिति में सुनिश्चित किया कि, लोग मियां पर शक न करें। पीड़ितों की काउंसलिंग करने वाली सहाय ने कहा कि, पीड़ित नाबालिगों में कुछ तो इतनी छोटी हैं कि, उन्हें इस बात का अहसास भी नहीं था कि उनका शोषण किया जा रहा है।

Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned