बेटी की सगाई कर लौट रहे SI हादसे में जिंदा जले, जांच करने पहुंची पुलिस आरक्षक बेटी; चेन देखकर कहा- ये मेरे पिता हैं

बेटी की सगाई कर लौट रहे SI हादसे में जिंदा जले, जांच करने पहुंची पुलिस आरक्षक बेटी; चेन देखकर कहा- ये मेरे पिता हैं

Pawan Tiwari | Publish: Jun, 24 2019 10:12:39 AM (IST) | Updated: Jun, 24 2019 11:11:02 AM (IST) Bhopal, Bhopal, Madhya Pradesh, India

  • राजगढ़ के लीमाचौहान थाने में पदस्थ थे प्रभारी एसआई अशोक तिवारी।
  • बेटी की सगाई कर वापस लौटते समय हुआ हादसा।

भोपाल. रविवार को राजगढ़ जिले के लीमाचौहान थाने में पदस्थ प्रभारी एसआई अशोक तिवारी की सड़क दुर्घटना में दर्दनाक मौत हो गई। हादसा बोड़ा-बोरखेड़ा रोड पर कंडारा कोटरी और पनवाड़ी गांवों के बीच हुआ। अशोक तिवारी अपनी बेटी की सगाई करके इलाहाबाद से वापस लौट रहे थे। अशोक तिवारी जैसे ही कंडारा कोटरी और पनवाड़ी गांव के पास पहुंचे उसी समय सामने से आ रहे डंपर से उनके कार की भिड़ंत हो गई। जिस कारण कार में आग लग गई और अशोक तिवारी की जिंदा जलने से मौत हो गई।

अशोक तिवारी मूल रूप से उत्तरप्रदेश के प्रतापगढ़ के रहने वाले थे और 1981 के बैच में उनकी पहली नियुक्ति सीहोर में सिपाही के पद पर हुई थी। उनके 4 बेटियां और 1 बेटा है। कार खुद अशोक तिवारी चला रहे थे। हादसे के बाद पुलिस जब मौके पर पहुंची तो पुलिस कर्मियों ने उनकी कार के नबंर से उनकी पहचान की। इसके बाद उनके परिजनों से फोन करके जानकारी ली गई, तब पता चला कि कार में टीआई थे।

 

 

इसे भी पढ़ें- वीडियो: शादी समारोह में विवाद, लोगों ने एक युवक से जूते पर रगड़वाई नाक, पीड़ित लापता

 

 

बेटी ने की पहचान
गाड़ी में आग लगने के कारण बॉडी पूरी तरह से जल चुकी थी। गाड़ी की पहचान नंबर के आधार पर अशोक तिवारी के रूप में की गई थी, लेकिन वह उस गाड़ी में थे कि नहीं इसकी पुष्टि के लिए पुलिस ने उनके परिजनों से संपर्क किया। परिजनों ने बताया कि वह लीमा जाने के लिए निकलने थे। मामले की जानकारी उनकी श्यामपुर थाने में आरक्षक के पद पर पदस्थ बेटी श्वेता तिवारी को लगी। श्वेता ने मौके पर पहुंचकर उनकी पहचान गले में पहन रखे लॉकेट एवं चेन से की।

 

car

बेटी की सगाई के लिए ली थी छुट्टी
अनुविभागीय अधिकारी पुलिस (एसडीओपी) नागेन्द्र सिंह बैस ने बताया, कार एवं डंपर की टक्कर में पुलिस उपनिरीक्षक अशोक तिवारी की मौत हो गयी। वह राजगढ़ जिले के लीमाचौहान थाने के प्रभारी थे। बैस ने बताया कि राजगढ़ जिले के बोड़ा थाना क्षेत्र के अंतर्गत पनवाड़ी गांव के समीप डंपर ने उनकी कार को टक्कर मार दी, जिससे कार जलने लगी। वह कार में फंस गये, जिससे उनकी जलकर मौत हो गयी। वह दो दिन की छुट्टी पर थे और इलाहाबाद में अपनी बेटी की सगाई कर भोपाल होते हुए लौट रहे थे तभी हादसा हो गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned